Home देश दिल्ली- 900 छात्रों ने प्राइवेट स्कूल को छोड़,इस सरकारी स्कूल में कराया...

दिल्ली- 900 छात्रों ने प्राइवेट स्कूल को छोड़,इस सरकारी स्कूल में कराया दाखिला

SHARE
फोटो साभार-एचटी
फोटो साभार-एचटी

देश की राजधानी दिल्ली में जहां प्राइवेट स्कूलों में बच्चों का पढ़ना एक फैशन सा बन गया है. वहां इस सरकारी स्कूल में बच्चे खुद प्राइवेट स्कूलों की पढ़ाई छोड़कर अपना दाखिला इस स्कूल में करा रहे हैं.

दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 21 में बने नवनिर्मित सर्वोदय सह शिक्षा सीनियर सेकेंडरी स्कूल में बीते 3 महीने में 900 बच्चों ने अपना ट्रांसफर दूसरे स्कूलों से इस स्कूल में कराया है.

इस सरकारी स्कूल को नवनीकरण के बाद 1 अप्रेल से शुरू किया गया था. इस स्कूल की इमारत में योग रूम, संगीत कक्षा, गणित प्रयोगशाला और विज्ञान प्रयोगशाला सहित 69 कमरे बने हुए हैं. वर्तमान में इस स्कूल में 1200 छात्र -छात्राएं पढ़ रहे हैं.

16 वर्षीय स्कूल के छात्र रावत ने कहा कि पहले मैं एक प्राइवेट स्कूल में 2500 मासिक शुल्क देकर पढ़ाई करता था. मगर अब मैनें वहां जाना छोड़ दिया. रावत ने कहा कि जब मुझे सरकारी स्कूल में अच्छी सुविधाएं और गुणवत्ता की शिक्षा मिल रही है तो मैं एक प्राइवेट स्कूल में क्यों पढ़ने जाऊं. उन्होंने कहा कि मुझे अब पढ़ाई के लिए किसी शुल्क का भुगतान करने की जरूरत नहीं है.

गौरतलब है कि रावत भी उन 900 बच्चों में शामिल हैं जिन्होंने दूसरे स्कूलों से इस स्कूल में स्थानांतरित किया है.

इस स्कूल के उप प्रधानाचार्य सुखबीर सिंह यादव ने अपने इस स्कूल के बारे में कहा कि हमारे स्कूल की सबसे बडी खासियत है कि इस स्कूल की इमारत एक प्राइवेट स्कूल की तरह दिखती है. जो अभिभावकों को अपनी तरफ आकर्षित करती है.

फोटो साभार-एचटी
फोटो साभार-एचटी

उन्होंने कहा कि हमने अपने स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की यूनिफार्म को विशेष रूप से तैयार किया है. ताकि उन्हें इस यूनिफार्म को पहनकर चलने में गर्व महसूस हो.

उप प्रधानाचार्य यादव जी ने हिन्दुस्तान टाइम्स से बातचीत में कहा कि उनके स्कूल में 11 वीं कक्षा में दाखिला लेने वाले 99 प्रतिशत छात्र-छात्राएं प्राइवेट स्कूलों को छोड़कर आए हैं.

श्री यादव ने कहा कि इस साल प्राइवेट स्कूलों की 79.27% की तुलना में दिल्ली के सरकारी स्कूलों का 12वीं कक्षा के बोर्ड परिणामों का पास प्रतिशत 88.27% था. और यही वजह है कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों के अच्छे परिणामों को लोगों ने महसूस किया. उन्हें अब लगने लगा है कि सरकारी स्कूल भी अब अच्छे परिणाम दे रहें है.

उन्होंने स्कूल की तरफ से सीसीटीवी कैमरों, सार्वजनिक पता प्रणाली, बैडमिंटन और बास्केटबॉल कोर्ट, अधिक फर्नीचर और कंप्यूटर को देने के लिए सरकार से अनुरोध किया है.

फोटो साभार-एचटी
फोटो साभार-एचटी

दिल्ली सरकार में शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया की सलाहाकार अतीशि मारलेना ने कहा कि सरकार ने शिक्षा व्यवस्था में सुधार करके सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूल के मुकाबले बेहतर बनाया है. उन्होंने बताया कि इस साल दिल्ली सरकार ने शिक्षा के सालाना बजट में पिछले साल के 10,690 करोड़ को बढ़ाकर 11,300 करोड़ की राशि का आवंटन किया है.

अतीशि मारलेना ने कहा कि हमारे मौजूदा स्कूल अपने बुनियादी ढांचे में सुधार कर रहे हैं. और नए स्कूलों को अच्छी सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं.

उन्होंने कहा कि हमने छात्रों पर विशेष ध्यान देने के अलावा शिक्षकों के प्रशिक्षण पर भी ध्यान केंद्रित किया है.