Home देश Dalveer Bhandari : जानिए कौन हैं, जस्टिस दलवीर जिन्होंने आईसीजे में भारत...

Dalveer Bhandari : जानिए कौन हैं, जस्टिस दलवीर जिन्होंने आईसीजे में भारत का कद बढ़ाया

SHARE
justice dalveer bhandari

  Dalveer Bhandari : पद्मभूषण से सम्मानित है जस्टिस भंडारी

Dalveer Bhandari : अंतराष्ट्रीय कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) में भारतीय जज दलवीर भंडारी ने एक बार फिर अपनी सीट पक्की कर ली है.

नीदरलैंड स्थित अदालत के लिए जस्टिस भंडारी को जनरल एसेंबली में 183 और सिक्योरिटी काउंसिल में 15 मत मिले.
अदालत के इस पांचवे जज के लिए हो रहे चुनाव में जस्टीस दलबीर भंडारी का मुकाबला ब्रिटेन के उम्मीदवार क्रिस्टोफर ग्रीनवुड से था जो अब हार चुके हैं.
आपको बता दें कि 1945 में आईसीजे के स्थापना के बाद से ऐसा पहली बार हुआ है जब ब्रिटेन का कोई भी जज 15 न्यायधिशों की इस पीठ में मौजूद नहीं है.
यह भी पढ़ें – Digital Home Address : अब आदमी की तरह घरों का भी बनेगा आधार कार्ड, सरकार ला रही नई योजना
जानिए, जस्टिस भंडारी का जीवन परिचय
1 अक्टूबर 1947 को जोधपुर में जन्मे जस्टिस भंडारी पद्मभूषण से सम्मानित है और 40 साल से भी ज़्यादा समय तक भारतीय न्याय प्रणाली का हिस्सा रहे हैं.
जस्टिस भंडारी ने 1973 से 1976 तक राजस्थान हाई कोर्ट में वकालत की और उसके बाद वो दिल्ली आ गए. यहां उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट में अपनी प्रैक्टिस शुरू की और 1991 में वो उसी कोर्ट में जज के रूप में नियुक्त किए गए.
दिल्ली हाई कोर्ट में जज बनने के कुछ समय बाद उन्हें बॉम्बे हाई कोर्ट का मुख्य न्यायधीश बना दिया गया. इसके बाद 2005 में वापस दिल्ली आकर जस्टिस दलबीर सुप्रीम कोर्ट में जज बन गए.
यह भी पढ़ें – Illegal Car Parking : कार पार्किंग को लेकर नितिन गडकरी के इस नियम से हो जाइए सावधान
दलवीर भंडारी ने 19 जून 2012 को पहली बार इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में भारी मतों से जीतकर सदस्य के रूप में शपथ ली थी. और आज फिर एक बार उन्होंने अपनी सदस्यता बचाते हुए दुबारा जीत हासिल की है.
भारत में पढ़ाई करने के बाद जस्टिस दलवीर भंडारी ने अमेरिका के शिकागो स्थित नार्थ वेस्टर्न विश्वविद्यालय से क़ानून में मास्टर्स की डिग्री भी हासिल की. इस वजह से उन्हें अंतरराष्ट्रीय क़ानून के बारे में काफी जानकारी भी है.
जस्टिस दलवीर भंडारी ने एक पुस्तक भी लिखी है जिसका नाम ज्यूडीशियल रिफ़ॉर्म्स : रीसेंट ग्लोबल ट्रेंड्स है.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitterInstagram, and Google Plus