Home देश Haryana Cow Wapsi : बॉक्सिंग चैंपियनों ने लौटाई ईनाम में मिली गायें,...

Haryana Cow Wapsi : बॉक्सिंग चैंपियनों ने लौटाई ईनाम में मिली गायें, कारण सुन शायद आप भी करें सपोर्ट

SHARE
haryana cow wapsi
demo pic

Haryana Cow Wapsi : सेहत बनाने के लिए मिली थी

Haryana Cow Wapsi : देश में साहित्यकारों द्वारा अवार्ड वापसी का सिलसिला अभी थमा ही था कि हरियाणा की महिला बॉक्सरों द्वारा गाय वापसी के मुद्दे ने जोर पकड़ लिया है.

गजब कि बात है पहले लोग अवार्ड पाने के लिए सरकार से सिफारिश करते थे और अब जब अवार्ड दिया जा रहा तो उसे वापस कर रहे हैं.
लेकिन हरियाणा की चैंपियंस लड़कियों ने अवार्ड में मिली गाय को वापस करने का फैसला जो  लिया है इसके पीछे का कारण जानकर शायद आप भी उनके इस निर्णय को सपोर्ट करने लगेगें.
दरअसल हुआ यूं कि हरियाणा सरकार के कृषि मंत्री ओपी धनकर ने नवंबर में महिला यूथ बॉक्सिंग चैंपियनशिप में पदक हासिल करने वाली छह महिला बॉक्सरों को देसी नस्ल की गाय आवार्ड के रूप में देने का ऐलान किया था.
मगर अब छह में से तीन बॉक्सरों ने इनाम में मिली यह गाय वापस कर दी हैं. ऐसा करने के पीछे उनका कहना है कि यह गाय ना तो दूध दे रही है और ना ही किसी और काम आ रही है.यहीं नहीं जब इनके पास जाओ तो सींघ अलग मार रही है.
यह भी पढ़ें – Selfie With Cow : गाय को बचाने के लिए शुरू हुई ‘सेल्फी विद काऊ’ प्रतियोगिता, जीतने वाले को मिलेगा इनाम
बॉक्सर के घर वाले हो चुके हैं घायल
भिवानी की नीतू बताती हैं कि उपहार में मिली गाय को जब उनके परिवार ने दुहने की कोशिश करी तो उसने दूध ही नहीं दिया. इसके अलावा जब एक दिन उनकी मां गाय को पुचकारने के लिए उसके पास गई तो उसने उन्हें फेंक दिया जिस वजह से उनकी मां का हाथ फ्रैक्चर हो गया .
वहीं दूसरी ओर रोहतक के रोरुकी गांव की बॉक्सर ज्योति के भाई धरमबीर गोलिया बताते हैं कि कृषि मंत्री की घोषणा के कुछ दिन बाद ही ज्योति के घर पर गाय भेज दी गई थी, लेकिन उसने दूध ही नहीं दिया.
साथ ही कई लोगों घायल अलग कर चुकी है. गायों की तरफ से होने वाली इन घटनाओं से परेशान होकर तीनों बॉक्सर ज्योति, साक्षी और नीतू ने अपनी गायों को लौटा दिया है.
यह भी पढ़ें – Mathura Foreign Cowhelper: मथुरा में पिछले 39 साल से बिमार और बूढ़ी गायों की हमदर्द बन चुकी हैं जर्मन इरिना
सेहत बनाने के लिए भेंट करी गई थी गायें
बता दें कि पिछले साल गुवाहटी में हुए बॉक्सिंग चैंपिंयशिप में भारत की तरफ से 6 लड़कियों ने पदक जीता था. जिनके सम्मान में 29 नवंबर को विजेता बॉक्सरों को दिल्ली के राजीव गांधी खेल स्टेडियम में हरियाणा के कृषि मंत्री ओपी धनखड़ द्वारा गाय देने की घोषणा की गई थी.
गाय को ईनाम के रूप में देते हुए मंत्री जी ने कहा था कि हरियाणा की बेटियों ने कम उम्र में शानदार कामयाबी हासिल की है, इसलिए उन्हें कुछ अलग पुरस्कार मिलना चाहिए.
उन्होंने कहा था कि राज्य सरकार सभी बॉक्सरों को एक-एक गाय देगी जिससे की बेटियां शुद्ध दूध-दही से सेहत और बुद्धि विकसित कर सकें. मगर हुआ उल्टा मंत्री जी की ये गाएं सेहत बनाना तो दूर बॉक्सरों और उनके परिवार की सेहत जरूर बिगाड़ने का काम करने लगी हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitterInstagram, and Google Plus