Home देश भारत में हाथियों की जनसंख्या में 10 प्रतिशत की गिरावट,सरकार निकालेगी ‘गज...

भारत में हाथियों की जनसंख्या में 10 प्रतिशत की गिरावट,सरकार निकालेगी ‘गज यात्रा’

SHARE
demo pic
demo pic
केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शनिवार को भारत के हाथियों की 2017 में हुई जनगणना के परिणाम जारी किए. नई जनगणना के मुताबिक देश के 23 राज्यों में हाथियों की जनसंख्या में पिछले पांच सालों के मुकाबले 10% की गिरावट आई है. 2012 में जहां इनकी संख्या 30,000 थी वहीं ये अब घट कर 27,312 रह गई है.
मंत्रालय के अनुसार हाथियों की जनसंख्या का सही आकलन करने के लिए हाथी वितरण मानचित्रण जैसी तकनीकों का उपयोग किया गया है. मंत्रालय के दावे के अनुसार हाथियों की आबादी में गिरावट वैज्ञानिक और समान तरीकों के इस्तेमाल के कारण हुई है. हालांकि रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि यह केवल शुरूआती रिपोर्ट है अगले कुछ महीनों की और रिपोर्ट आने के बाद ही इस पर कोई निष्कर्ष निकाला जाएगा.
हाथियों की कम होती जनसंख्या को देखते हुए केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने लोगों से हाथियों के संरक्षण के लिए नई रणनीति तैयार करने का आग्रह किया है. जिसमें हाथियों के सीमा संरक्षण , प्राकृतिक निवास स्थान की रक्षा, सुधार और विस्तार, विद्युत शक्ति से हाथियों की होने वाली मौतों को रोकने के मुद्दे प्रमुख रहेंगे.
इसके अलावा उन्होंने जानकारी दी कि हाथियों की रक्षा के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान “गज यात्रा” भी शुरू कि गयी है. जिसमें 12 राज्यों के हाथियों को कवर करने का लक्ष्य रखा गया है.
इस परियोजना के निर्देशक आर के श्रीवास्तव के कहा कि हमें उम्मीद है कि यह अभ्यास भारत और दूसरे देशों में हाथियों की आबादी को बढ़ाने में सहायक होगा.
आकड़ों के मुताबिक फिलहाल पूरे भारत में 65,000 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में 29 हाथी भंडार हैं. लेकिन जंगलों में लगातार इंसानों की बढ़ती दख्लअंदाजी के कारण इनके आवासों में भारी कमी हो चुकी है ,जो कि मानव-हाथी संघर्ष को बढ़ावा दे रही है. जबकि पिछले चार सालों में मानव-हाथी संघर्ष के चलते हर दिन एक आदमी को अपनी जान गंवानी पड़ती है.
गौरतलब है कि भारत में एशिया के हाथियों के आवास और गलियारों की रक्षा और मानव-हाथी संघर्ष को संबोधित करते हुए 1992 में एक परियोजना की शुरूआत हुई थी. तब से सरकार हर चार से पांच वर्षों में हाथियों की आबादी की गिनती करती आ रही है.
वहीं केंद्र और राज्य दोनों की सरकारें भी हाथियों की कम हो रही जनसंख्या के मुद्दे को हल करने के लिए निरंतर प्रयास कर रही हैं.

साभार –लाइवमिंट