Home देश Income Inequality: सरकार द्वारा पर्याप्त नौकरी ना बहाल करने से देश में...

Income Inequality: सरकार द्वारा पर्याप्त नौकरी ना बहाल करने से देश में बढ़ेगी असामनता- रिपोर्ट

SHARE
income inequality

Income Inequality: असमानता की वजह से बढ़ेगा अपराध

Income Inequality: देश में सरकार द्वारा पर्याप्त नौकरियां ना बहाल करने की वजह से लोगों के बीच आर्थिक असामनता बढ़ सकती है .

यह जानकारी वित्तीय सेवा प्रदाता एमबिट कैपिटल ने अपने शोध में निकले निष्कर्षों के आधार पर दी है.
उन्होंने इस संबंध में एक रिपोर्ट जारी कर चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने समय रहते कोई एक्शन नहीं लिया तो देश की आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है.
एमबिट कैपिटल ने अपने शोध में कहा है कि भारत की कुल आबादी के 50 प्रतिशत (निम्न आय स्तर वाले) लोगों की राष्ट्रीय आय में हिस्सेदारी केवल 11 प्रतिशत है, जबकि शीर्ष 10 प्रतिशत की हिस्सेदारी 29 प्रतिशत है.
वहीं इन लोगों कि प्रति व्यक्ति आय 1,850 डॉलर है, जबकि निचले तबके के 66 करोड़ लोगों या देश की 50 प्रतिशत आबादी की प्रति व्यक्ति आय 400 डॉलर से कम है, जो की एक चौंकाने वाला आकड़ा है.
अब तो आलम यह हो गया है कि हमारे देश के लोगों की प्रति आय अफगानिस्तान के नागरिकों की प्रति व्यक्ति आय से भी कम है. क्योंकि अफगानिस्तान नागरिकों की प्रति व्यक्ति आय 561 डॉलर है.
वहीं, दूसरी ओर देश की शीर्ष 1 प्रतिशत आबादी (1.30 करोड़) की प्रति व्यक्ति आय 53,700 डॉलर है जो डेनमार्क की प्रति व्यक्ति आय से तुलना योग्य और सिंगापुर की प्रति व्यक्ति आय 52,961 डॉलर से ज्यादा है.
आपको बता दें कि इस रिपोर्ट में यह चेतावनी दी गयी है कि बेरोजगारी और असमानता के मेल के कारण देश में अपराध और सामाजिक तनाव में वृद्धि हो सकती है.
उन्होंने इसके लिए बिहार और उत्तर प्रदेश का उदाहरण दिया जहां प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत की तुलना में कम होने के चलते लोगों के बीच काफी असामनता है.
जिसकी वजह से वहां अन्य राज्यों की तुलना में अपराध की दर भी ज्यादा है.

भाषा के इनपुट से

For More Breaking News In Hindi and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus