Home देश बिहार की बेटी ने ITBP फोर्स में पहली महिला अफसर बनकर रचा...

बिहार की बेटी ने ITBP फोर्स में पहली महिला अफसर बनकर रचा इतिहास

SHARE
ITBP First Women Officer
प्रकृति

ITBP First Women Officer : असिस्टेंट कमांडेंट के पद पर मिलेगी तैनाती

ITBP First Women Officer : देश के चीन बार्डर की सुरक्षा में तैनात रहने वाली भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) को अपनी पहली महिला आफिसर मिल गई है.

भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल की पहली महिला अधिकारी बनने का गौरव बिहार की एक बेटी को मिला है.
बिहार के समस्तीपुर जिले की रहने वाली 25 साल की प्रकृति इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बैचलर की पढ़ाई कर चुकी हैं और फिलहाल वो उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में आईटीबीपी बेस में अपनी ट्रेनिंग पूरी कर रही हैं.
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्हें प्रशिक्षण पूरा होने के बाद अगले साल तक असिस्टेंट कमांडेंट के तौर पर देश की सीमा चौकी पर तैनात किया जा सकता है.
यह भी पढ़ें – भारतीय वायुसेना का फाइटर प्लान अकेले उड़ाने वाली पहली महिला बनी अवनी
बता दें कि प्रकृति ने 2016 में सरकार की ओर से आईटीबीपी में महिलाओं की तैनाती को मंजूरी देने के बाद संघ लोक सेवा आयोग की केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल ऑफिसर भर्ती परीक्षा के जरिए यह मुकाम हासिल किया है.
खास बात यह रही कि उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में इस परीक्षा को पास कर लिया था.
देश सेवा की इच्‍छा
प्रकृति का कहना है कि शुरू से ही उनकी इच्‍छा रही है कि वह वर्दी पहनकर देश की सेवा करें. उनके पिता वायुसेना में हैं जिस वजह से देश सेवा करने की प्रेरणा उन्हें उनसे ही मिली.
प्रकृति ने बताया कि मार्च 2016 में अखबार में एक खबर पढ़ी थी की सरकार ने आईटीबीपी में महिला अफसरों को अग्रिम मोर्चे पर तैनाती को अनुमति दे रही है, तभी से उन्‍होंने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी थी और आज उनका यह सपना पूरा हो गया है.
यह भी पढ़ें – देहरादून के ऑटो ड्राइवर की बेटी ने पीसीएस-जे की परीक्षा में किया टॉप, अब लड़कियों की बनी रोल मॉडल
गौरतलब है कि 1962 में गठित आईटीबीपी चीन के साथ लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर 3,488 किमी के इलाके की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालती है.
आईटीबीपी में 2009 से महिलाओं की पहली भर्ती जवान के तौर पर की गई थी और वर्तमान में 60,000 जवानों की संख्या वाली आईटीबीपी में 1,661 के करीब महिला जवान कार्यरत हैं.