Home देश Kanchanmala : भारत की नेत्रहीन बेटी ने विश्व पैरा तैराकी चैंपियनशिप में...

Kanchanmala : भारत की नेत्रहीन बेटी ने विश्व पैरा तैराकी चैंपियनशिप में गोल्ड जीतकर रचा इतिहास

SHARE
Kanchanmala
कंचनमाला पांडेय

Kanchanmala : स्विमिंग के लिए बर्लिन में मांगी थी भीख

Kanchanmala : मैक्सिको में चल रही विश्व पैरा तैराकी चैंपियनशिप में गुरुवार को नागपुर की कंचनमाला पांडे ने गोल्‍ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है. वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला तैराक बन गईं हैं.

नेत्रहीन हैं कंचनमाला
मैक्सिको में चल रही इस प्रतियोगिता में कंचनमाला ने आंखों से ना देख सकने के बावजूद भी यह कीर्तिमान हासिल किया. आपको बता दें कि कंचन ने एस-11 श्रेणी में 200 मीटर के मेडली इवेंट में यह खिताब जीता.
यह भी पढ़ें – UNESCO की विश्व धरोहर लिस्ट में ताजमहल का दूसरा स्थान, कुंभ मेला भी हुआ शामिल
आरबीआई में करती हैं नौकरी
 26 वर्षीय कंचनमाला फिलहाल भारतीय रिजर्व बैंक में कार्यरत हैं. जीतने के बाद उन्होंने बताया कि उन्हें यह तो पता था कि वो मैक्सिको में अच्छे खेल का प्रदर्शन करेंगी मगर विश्व चैपिंयनशिप में गोल्ड जीतना उनके लिए हैरान करने वाला था.
आपको बता दें कि कंचन भारत की ओर से पैरा स्वीमिंग चैंपियनशिप में क्वॉलिफाइ करने वाली इकलौती महिला तैराक थीं.
हालांकि अन्य इवेंट्स में वह पोडियम तक नहीं पहुंच पाईं. 100 मीटर फ्रीस्टाइल में वह पदक से चूक गईं. जबकि ब्रेस्टस्ट्रोक और बैकस्ट्रोक में वह पांचवें स्थान पर रहीं.
यह भी पढें – #Me Too : अतीत में हुए यौन शोषण पर चुप्पी तोड़ने वाली महिलाओं को चुना गया ‘पर्सन ऑफ द ईयर’
बर्लिन में मांगी थी भीख
गौरतलब है कि अभी कुछ ही महीनों पहले कंचन को जर्मनी के बर्लिन शहर की सड़कों पर भीख मांगते हुए देखा गया था.
ऐसे वो इसलिए कर रही थी क्योंकि उन्हें जर्मनी में होने वाली वर्ल्ड चैपिंयशिप के क्वालीफाई राउंड में भाग लेने के लिए पैंसो की जरूरत थी और भारत की पैरालंपिक कमेटी ने इनकी कोई मदद नहीं की.
जबकि बाद में इसी टूर्नामेंट में उन्होंने सिल्वर मेडल जीतकर मैक्सिको में होने वाली वर्ल्ड चैपिंयनशिप में क्वालीफाई करने वाली पहली महिला तैराक बनीं .

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitterInstagram, and Google Plus