Home देश Nirbhay Thacker : 15 वर्षीय इस गुजराती छात्र ने 4 साल की...

Nirbhay Thacker : 15 वर्षीय इस गुजराती छात्र ने 4 साल की बी.टेक. डिग्री 1 साल में पूरा कर सबको किया अचंभित

SHARE
Nirbhay Thacker
dna

Nirbhay Thacker :  जानिए, किस तरह निर्भय ने की पढ़ाई

Nirbhay Thacker : गुजरात टेक्नॉलाजिकल यूनिवर्सिटी (जीटीयू) में पढ़ने वाले निर्भय ठाकेर ने महज 15 साल की उम्र में ही अपनी इंजीनियरिंग तक की पढ़ाई पूरी कर सबको आश्चर्यचकित कर दिया है.

गुजरात के भुज जिले के रहने वाले निर्भय ने 4 साल में पूरी की जाने वाली इंजीनियरिंग को सिर्फ 1 साल में ही कंप्लीट कर लिया.
आइए जानते हैं निर्भय ठाकेर के इस अचंभे को….
कॉलेज और यूनिवर्सिटी में कोर्स पूरा होने के बाद डिग्री मिलने वाला दीक्षांत समारोह हर संस्था के शिक्षक और छात्रों के लिए अहम होता है. लेकिन गुजरात टेक्नॉलजिकल यूनिवर्सिटी (जीटीयू) में होने वाला इस
साल का दीक्षांत समारोह बहुत ही खास होने वाला है.
क्योंकि जीटीयू में पढ़ने वाले सभी छात्रों के साथ इस बार इंजिनियरिंग की डिग्री को पाने वाला 15 साल का निर्भय ठाकेर भी शामिल रहेगा, जिसने चार साल की इंजीनियरिंग के कोर्स बस एक साल में ही पूरा करके सबको अचंभित कर दिया
है.
यही नहीं निर्भय ने जीटीयू के इतिहास में सबसे कम उम्र में डिग्री लेने वाले छात्रों में अपना नाम भी दर्ज कर लिया है. आपको बता दें कि 12 जनवरी यानि की राष्ट्रीय युवा दिवस के दिन गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी द्वारा दीक्षांत समारोह में निर्भय को यह डिग्री दी जाएगी.
यह भी पढ़ें – Chotu Sharma : नौकरी नहीं मिली तो खोल डाली सॉफ्टवेयर कंपनी, आज 10 करोड़ सालाना है कमाई
इस तरह निर्भय ने की पढ़ाई
निर्भय ने SAL इंस्टिट्यूट से इलेक्ट्रिकल इंजिनियरिंग का कोर्स ओवरऑल 8.23 सीजीपीए के साथ एक साल में पूरा किया है. अपनी पढ़ाई के बारे में निर्भय का कहना है कि उन्होंने हर दिन 6 घंटे की पढ़ाई की और 40-
50 दिनों एक सेमेस्टर की परीक्षा देकर उसे क्लियर कर लिया.
इस हिसाब से उन्होंने छह विषयों के करीब 4,000 पेज 50 दिनों में ही पूरे कर लिए.
निर्भय की इस लगन को देखते हुए उसकी परीक्षाएं जीटीयू ने आयोजित करवाईं और इस अनोखे हौसले को देखते हुए वीसी नवीन सेठ ने खुद रुचि लेकर निर्भय की तैयारी देखी.
पढ़ाई के अलावा खेलों में भी रुचि रखने वाले निर्भय ने अपने इस अद्भुत कार्य के लिए मानव विकास संसाधन,राज्य सरकार, एआईसीटीई और जीटीयू को धन्यवाद दिया है.
निर्भय ने बताया कि इनकी ही मदद से उसे इतनी कम उम्र में एग्जाम देने की अनुमति मिली और उसने ये इतिहास रचा है.
यह भी पढ़ें – Swami Vivekanand Jayanti : युवाकाल में पिता के विरुद्ध लिया गया विवेकानंद जी का ये फैसला, आज है नौजवानों की प्ररेणा
शोधकर्ता बनने की है रूचि
निर्भय कई विषयों पर शोध करना चाहता है और फिलहाल IIT गांधीनगर के साथ एक प्रॉजेक्ट पर काम भी कर रहा है. बचपन से ही पढ़ने में तेज रहे निर्भय ने क्लास 8, 9, 10, 11 और 12 की शिक्षा भी एक साल में ही पूरी कर ली थी

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus