Home देश एक साल के अंदर देश में गड्डों ने ली 3597 जानें, योगी...

एक साल के अंदर देश में गड्डों ने ली 3597 जानें, योगी का यूपी इसमें भी नंबर 1

SHARE
Potholes Killed People Across India
demo pic

Potholes Killed People Across India : आंतकियों और नकस्लियों से ज्यादा जानें इन गड्ढों ने ली है

Potholes Killed People Across India : भारत की सड़कों पर मौजूद गड्ढों से होने वाली परेशानी से तो हर कोई वाकिफ है, मगर ये इतना जानलेवा बन चुके हैं इस बाते से शायद अब तक हर कई अंजान होगा.

दरअसल अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया है कि भारत के अंदर साल 2017 में 3,597 लोगों की मौत सड़कों पर पड़े गड्ढों की वजह से हुई है.
यानि की भारत की इन सड़कों पर सिर्फ गड्ढों की वजह से ही औसतन रोजाना 10 लोगों की जान जा रही है. वहीं अगर इसके पीछले साल की तुलना करें तो साल 2016 में हुई मौतों से यह संख्या 50 फीसदी ज्यादा है.
पढ़ें – यूपी की योगी सरकार ने बोर्ड टॉपर्स को दिया गिफ्ट, गांव में बनवाएगी सड़क
इस मामले में भी यूपी नंबर 1
रिपोर्ट के अनुसार देश में इस वजह से सबसे ज्यादा मौतें यूपी में हुई हैं. जी हां ये वही यूपी है जहां के मुख्यमंत्री ने अपने शपथ लेने के कुछ दिनों बाद ही महज 45 दिन के अंदर सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का दावा किया था.
मगर आकड़ों ने तो मानों उनके दावे की पोल ही खोल दी है क्योंकी गढ्ढों की वजह से होने वाले हादसों में सबसे ज्यादा मौतें यूपी में ही हुई है.
रिपोर्ट के अनुसार बीते वर्ष अकेले यूपी में 987 लोगों की जान सड़क पर गड्ढों की वजह से होने वाले हादसों में गई है. वहीं यूपी के बाद दूसरा नंबर महाराष्ट्र का आता है जहां 2017 में 726 लोगों ने अपनी जान सड़क पर पड़े गड्ढों की वजह से गंवाई है.
इसके अलावा हरियाणा में जहां वर्ष 2016 में गड्ढें में गिरने से कोई मौत दर्ज नहीं हुई थी वहीं इस वर्ष वहां 522 मौतें दर्ज की गई हैं.
राजधानी दिल्ली का भी कुछ ऐसा ही है वहां भी साल 2016 में कोई मौत सड़क के गड्ढों की वजह से नहीं हुई थी मगर वर्ष 2017 में वहां भी 08 लोगों की गड्ढों में गिरने से मौत हुई है.
यही नहीं प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में भी हालात कुछ ज्यादा ठीक नहीं है.
आंतकियों और नकस्लियों से ज्यादा जानें गड्ढों ने ली
आपको जानकार हैरानी होगी की 2017 में जितनी मौतें आतंकी घटनाओं में या नकस्ली हमले में नहीं हुई है उससे ज्यादा मौते गड्ढों में गिरने से हुई हैं.
रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2017 में आतंकी व नक्सली हमलों में लगभग 803 लोगों ने अपनी जान गंवाई है इसमें आम नागरिक और सुरक्षा जवान दोनों की संख्या शामिल है. जबकि सड़के के गड्डों में गिरने से 3597 लोगों की जान गई है.
पढ़ें – UP में आज से हुई पॉलिथीन बैन, जानिए क्या सभी प्रकार की पॉलिथीन पर लगेगा बैन?
दोषियों के लिए कानून में होगा प्रावधान
सड़क सुरक्षा मामलों के जानकार रोहित बलुजा कहते हैं कि इस तरह की दुर्घटनाओं में होने वाली मौत का जिम्मेदार संबंधित अधिकारी को माना जाए और उस पर भारतीय दंड संहिता के तहत हत्या का मामला चलाया जाना चाहिए.
उन्होंने बताया कि कई मामलों में यह सामने आया है कि सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों की सबसे बड़ी वजह सड़कों की गलत डिजाइन, खराब रख-रखाव और सड़क समस्याओं को सुलझाने की अनदेखी किए जाना भी है.
वहीं इस रिपोर्ट के बाहर आने के बाद केंद्रीय सड़क मंत्रालय के एक अफसर ने बताया मोटर वाहन संशोधन विधेयक में इस तरह के प्रावधानों को शामिल किया जा रहा है. लेकिन संसद की कार्यवाही सुचारू रूप से ना चल पाने के कारण ये पास होने में अटका हुआ है.