Home देश कैशलेस इंडिया को लगा बड़ा झटका, देश चला फिर नकद लेनदेन की...

कैशलेस इंडिया को लगा बड़ा झटका, देश चला फिर नकद लेनदेन की ओर – आरबीआई

SHARE
RBI Currency Circulation Report
demo pic

RBI Currency Circulation Report : नोटबंदी से पहले के बराबर पहुंचा करेंसी का सर्कुलेशन

RBI Currency Circulation Report : भ्रष्टाचार और ब्लैकमनी को खत्म करने के इरादे से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिया नोटबंदी का फैसला शायद अब बेअसर सा लगने लगा है.

8 नवंबर 2016 को अचानक 500 और 1000 की नोटों को चलन से बाहर करने के पीछे सरकार ने जो दावा पेश किया था वो अब डेढ़ साल बाद गलत साबित हो रहा है.
दरअसल भारतीय रिजर्व बैंक ने हाल में जारी अपने आकड़ों में बताया है कि देश में करेंसी का सर्कुलेशन एक बार फिर वहीं पहुंच गया है जो नोटबंदी के पहले था.
आरबीआई ने अपनी रिपोर्ट में माना है कि वर्तमान में देश के अंदर करेंसी का सर्कुलेशन का स्तर पहले की ही तरह 99.17 फीसदी पहुंच गया है.
बैंक के ताजा डाटा के मुताबिक 23 फरवरी तक 17.82 लाख करोड़ रुपये की करंसी सर्कुलेशन में हैं जबकि नोटबंदी की घोषणा से एक हफ्ते पहले तक यह रकम 17.97 लाख करोड़ थी.
यह भी पढ़ें – Kotak Wealth Report : जानिए देश का करोड़पति वर्ग कहां और कितना खर्च करता है पैसा
कैश लेनेदेन में हुई अचानक बढ़ोतरी
नोटबंदी के बाद सरकार द्वारा लगातार डिजिटल तरीकों से पेमेंट्स और खुद को कैशलैस बनाने की अपील का असर लोगों में जितनी तेजी से हुआ था लगता है अब वो भी फिका पड़ता जा रहा है.
आरबीआई के मुताबिक जनवरी 2018 के बाद से करंसी के सर्कुलेशन में काफी तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिली.
इस बीच डिजिटल ट्रांजैक्शंस कम हुए और करीब 89 हजार करोड़ का नकद करंसी का सर्कुलेशन बढ़ा है.
वहीं अचानक हुए इस बढ़ोतरी से देश के बढ़े अर्थ शास्त्री भी हैरत में, वो अभी तक इसके पीछे की ठोस वजह को ही नहीं समझ पा रहे हैं.
यह भी पढ़ें – KYC भरने की अंतिम तारीख तो गई लेकिन चिंता की नहीं है बात, ऐसे पाएं अपना वॉलेट
नोटबंदी से आम आदमी को क्या मिला
 – मजदूर को उसकी मजदूरी नहीं मिली
 -दर्द से तड़पते मरीजों का अस्पतालों में इलाज तक नहीं किया गया
 -उद्योग बंद हो गए और लाखों परिवारों में पैसे कमाने वाले बेरोजगार होकर घर पर बैठ गए
 -पैसे निकालने के लिए आम आदमी को घंटों तक तेज धूप में एटीएम के बाहर लंबी लाइन में खड़ा होना पड़ा