Home देश देश की पुलिस फोर्स में पिछड़ रही हैं महिलाएं, ग्रह मंत्रालय की...

देश की पुलिस फोर्स में पिछड़ रही हैं महिलाएं, ग्रह मंत्रालय की रिपोर्ट में महज 7.28% हैं आंकड़े

SHARE
Women Police In India
demo pic

Women Police In India : यूपी में महज 3.81 फीसद महिला पुलिस कार्यरत

Women Police In India : भारत की सरकारें भले ही देश में महिलाओं को हर क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिए तमाम वायदे करती हो लेकिन सच तो यह कि इनकी सुरक्षा के लिहाज से बेहद जरूरी पुलिस विभाग में ही आज तक महिलाओं की स्थित नहीं सुधारी जा सकी है.

गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए ताजा आंकड़ों में यह सामने आया है कि देश में महिला पुलिस की हिस्सेदारी पुरुषों के अपेक्षा महज 7.28 प्रतिशत है, जो कि इतनी बड़ी महिला आबादी के बीच बहुत ही कम है.
शुरूआत अगर नक्सल प्रभावित राज्य तेलंगाना में महिला पुलिस के आंकड़े से करें तो वहां पुलिस विभाग में लगभग 2.47 प्रतिशत तक ही महिला हिस्सेदारी सामने आई है.
जबकि आतंकवाद प्रभावित जम्मू कश्मीर में 80,000 से अधिक स्वीकृत पदों पर 3.05 प्रतिशत महिलाएं ही पुलिस बल में कार्यरत है.
यह भी पढ़ें Women Rights In Islamic Countries : इस्लामिक देश भी समझने लगे महिला अधिकारों की बात
वहीं देश के सबसे बढ़े राज्य कहे जाने वाले उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां हालत और भी दयनीय है, वैसे तो यूपी पुलिस में महिलाओं के लिए 3,65,000 पद स्वीकृत हैं मगर वहां पुलिस बल में सिर्फ 3.81 फीसद ही महिलाएं तैनात हैं.
बता दें कि हर दिन महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध को देखते हुए गृह मंत्रालय ने इन आंकड़ों को जारी किया हैं.
इन आंकड़ों के अनुसार साल 2015 में महिलाओं के खिलाफ 3,29,243 अपराध दर्ज कराए गए थे. वहीं साल 2016 में इन अपराधों की संख्या में और बढ़ोतरी हुई और यह आंकड़ा 3,38,954 तक पहुंच गया.
आंकड़ों पर जानकारी देते हुए गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सभी राज्य सरकारों और संघशासित प्रदेशों में हर साल महिला पुलिस की संख्या को 33 प्रतिशत करने की मांग करते हुए एक पत्र लिखा गया.
यह भी पढ़ें – भारतीय वायुसेना का फाइटर प्लान अकेले उड़ाने वाली पहली महिला बनी अवनी
लेकिन इसके बावजूद भी इन हालातों पर कोई भी कार्रवाई नहीं हुई है.इसी वजह से आज भी समस्या जस की तस बनी हुई है.
गौरतलब है कि पिछले साल इस मुद्दे पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) के जयंती समारोह कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि 21वीं सदी के दौर में पुलिस को इतना बेरहम नहीं होना चाहिए, सख्ती के साथ साथ सभ्यता भी दिखाना पुलिस का कर्तव्य होना चाहिए.
गृह मंत्री ने सभी राज्यों की पुलिस को दंगे और प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए धैर्य से काम लेने की भी बात कही.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus