Home देश World Population Day : दुनिया में बढ़ती जनसंख्या के प्रति लोगों को...

World Population Day : दुनिया में बढ़ती जनसंख्या के प्रति लोगों को जागरूक करता है आज का दिन

SHARE
World Population Day

World Population Day : जनसंख्या वृद्धी भारत के लिए बड़ी मुसीबत 

World Population Day : आज यानि कि 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है. दुनिया भर में हर साल बढ़ रही आबादी के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए इस खास दिन का चयन किया गया है.

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र ने 1989 में पहली बार 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के तौर पर मनाने की घोषणा की थी, उस वक्त विश्व की जनसंख्या लगभग 5 अरब थी.
इसके बाद महीने की 11 तारीख को बढ़ती जनसंख्या की ओर ध्यान केंद्रीत कराने के लिए विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है .
हर साल एक नए थीम के साथ मनाए जाने वाले इस दिन की इस बार थीम है ‘फैमिली प्लानिंग इज ए ह्यूमन राइट‘.
पढ़ें – दुनियाभर में क्यों होती है ट्रेड वॉर ? जानिए अब के हालात में भारत पर कितना पड़ेगा असर
गौरतलब है कि आज दुनिया की एक बड़ी आबादी भोजन, शिक्षा, स्वास्थ्य समेत मूल सुविधाओं से दूर है और इसकी एक प्रमुख वजह अनियंत्रित आबादी भी है.
इस दिन देश विदेश में हर स्तर पर कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिसमें लेक्चर, निबंध लेखन प्रतियोगिता, विभिन्न विषयों पर लोक प्रतियोगिता, पोस्टर वितरण, सेमिनार और चर्चा जैसे कार्यक्रम शामिल हैं. साथ ही परिवार नियोजन को लेकर लोगों को जागरूक किया जाता है.
भारत के लिए बड़ी मुसिबत जनसंख्या
आंकड़ों की मानें तो केवल भारत में हर मिनट 25 बच्चे पैदा होते हैं, ये वो आंकड़ा है जो कि अस्पतालों में दर्ज है लेकिन भारत में अभी भी बहुत सारे बच्चे अस्पताल में पैदा नहीं होते हैं इसलिए हो सकता है कि जन्मदर और भी ज्यादा है.
विशेषज्ञों का अनुमान है कि अगर भारत ने अपनी तेजी से बढ़ रही जनसंख्या की दर कम करने के लिए जल्दी कुछ ठोस कदम नहीं उठाए तो 2030 तक वह विश्व में सबसे बड़ी आबादी वाला देश कहलाएगा.
भारत की जनसंख्या विश्व के 29 देशों के बराबर है, यहां के झारखंड राज्य की जनसंख्या सऊदी अरब की जनसंख्या के लगभग बराबर है.
भारत की जनसंख्या बढ़ने का कारण अशिक्षा, स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का अभाव, अंधविश्वास है जिसके कारण भारत में संसाधनों का अभाव हो रहा है, भूख और कुपोषण बढ़ रहा है.
आपको जानकर हैरत होगी कि विश्व में बीमारियों का जो बोझ है, उसमें से 20 प्रतिशत केवल भारत का है.
पढ़ें – साल 2016 में देश के अंदर 54,216 बच्चों का हुआ अपहरण, यूं ही नहीं बच्चा चोरी की अफवाहें
इन देशों के लिए सबसे बड़ी समस्सया है अबादी
विश्व की आधी आबादी 9 देशों में रहती है. 2017 से 2050 तक, भारत, नाइजीरिया, कांगो का लोकतांत्रिक गणराज्य, पाकिस्तान, इथियोपिया, संयुक्त राज्य अमेरिका तंजानिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, युगांडा और इंडोनेशिया जनसंख्या वृद्धि के लिए सबसे अधिक योगदान देगा.
इसका मतलब है कि अफ्रीका की आबादी अब और 2050 के बीच लगभग दोगुना हो जाएगी.
भारत की ही तरह नाइजीरिया में भी जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है, अगर उसकी इस रफ्तार में ब्रेक नहीं लगा तो साल 2050 तक ये जनसंख्या के मामले में अमेरिका से आगे निकल जाएगा यानी की नंबर तीन पर पहुंच जाएगा, अभी इसका स्थान इस लिस्ट में नंबर 7 पर है.