Home सरकारी अड्डा दिल्ली सरकार का प्राइवेट स्कूलों को निर्देश, बढ़ी हुई फीस 9 प्रतिशत...

दिल्ली सरकार का प्राइवेट स्कूलों को निर्देश, बढ़ी हुई फीस 9 प्रतिशत ब्याज के साथ करें वापस

SHARE
Delhi Private School Return Increased Fees

Delhi Private School Return Increased Fees : 575 प्राइवेट स्कूलों पर मनमाने ढंग से अतिरिक्त फीस वसूलने का लगा है आरोप

Delhi Private School Return Increased Fees : मनमाने ढंग से अतिरिक्त फीस वसूलने वाले प्राइवेट स्कूलों पर लगाम लगाने के लिए दिल्ली सरकार ने कड़ा फैसला सुनाया है.

दरअसल दिल्ली सरकार ने 6 वें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू होने के बाद 575 प्राइवेट स्कूलों पर मनमाने ढंग से अतिरिक्त फीस वसूलने का आरोप लगाया है.
इस रवैये के खिलाफ दिल्ली में बैठी केजरीवाल सरकार ने इन प्राइवेट स्कूलों को सख्त आदेश दे दिया है कि वह अभिभावकों को जून 2016 से जनवरी 2018 के बीच में लिया गया अतिरिक्त शुल्क 9 प्रतिशत ब्याज के साथ सात दिनों के अंदर वापस करे .
बता दें कि कुछ दिन पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने राजधानी के अंदर स्कूलों द्वारा मनमाने ढंग से फीस बढ़ाने की शिकायतों के बाद एक समिति का गठन किया था.
इस समिति ने प्राइवेट स्कूलों की जांच कर अपनी रिपोर्ट पेश कर दी है और इसी के आधार पर आज सरकार ने ये फैसला लिया है.
यह भी पढ़ें – बिहार में सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा को पास करने वाले SC/ST छात्रों को मिलेगी प्रोत्साहन राशि
इस बारे में शिक्षा निदेशालय ने अपने आदेश में बताया कि समिति ने अपनी रिपोर्ट में 575 स्कूलों की पहचान की है जो वसूली गई ज्यादा फीस को नौ प्रतिशत ब्याज के साथ लौटाएंगे.
वहीं निदेशालय ने अपने आदेश में यह भी कहा कि यदि स्कूलों ने 7 दिनों के भीतर फीस वापस नहीं की तो दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम, 1973 के प्रावधानों के तहत स्कूलों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी.
इस बारे नें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर बताया कि देश में ऐसा पहली बार हुआ कि स्कूलों को अनुशासित करने का काम किया जा रहा है.
उन्होंने कहा कि उनको मनमाने ढंग से फीस बढ़ाने की इजाजत नहीं दी जा रही है और बढ़ी हुई फीस वापस करने के लिए निर्देश दिए जा रहे हैं क्योंकि दिल्ली में एक ईमानदार सरकार है.
गौरतलब है कि कुछ प्राइवेट स्कूलों ने दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश पर पहले ही बढ़ी हुई फीस लौटा दी थी, लेकिन कुछ स्‍कूलों ने ऐसा नहीं किया था. ऐसे में अरविंद केजरिवाल द्वारा इस बात का पूरा क्रेडिट लेना कुछ हद तक सही नहीं लगता