Home सरकारी अड्डा भारतीय रेलवे की बड़ी पहल, यात्री अपना कंफर्म टिकट ट्रांसफर कर अब...

भारतीय रेलवे की बड़ी पहल, यात्री अपना कंफर्म टिकट ट्रांसफर कर अब करा सकेंगे किसी दूसरे को यात्रा

SHARE
Railway Heavy Luggage Fine

Railway Confirmed Ticket Transfer : भारतीय रेलवे ने अपने मुसफिरों को एक बड़ी खुशखबरी दी है.

Railway Confirmed Ticket Transfer : रेल यात्री के जीवन में कई ऐसे मौके आते हैं जब उसके पास कंफर्म टिकट होता है मगर आखिर वक्त पर किसी कारण वश उसे अपना प्लान बदलना पड़ता है और वो सफर नहीं करना चाहता.

ऐसे मामलो में सबसे ज्यादा दुख तो उसे तब होता है जब उसके किसी परिवार के सदस्य को भी उसी दिन यात्रा करनी रहती है मगर वो चाह कर भी अपना टिकट उसे नहीं दे पाता है.
इसी परेशानी का हल भारतीय रेलवे ने अब निकाल लिया है, दरअसल रेलवे ने अपने पुराने नियमों में बदलाव करते हुए यह घोषणा की है कि अबसे अगर कोई रेल यात्री अपने सफर के कार्यक्रम में बदलाव करता है तो वो अपना टिकट परिवार के किसी सदस्य के नाम पर ट्रांसफर कर सकता है.
हालांकि भारतीय रेलवे ने इस बारे में कुछ शर्तें भी रखी हैं जिसका पालन हर ऐसा करने वाले यात्री को करना होगा.
यह भी पढ़ें – रेलकर्मियों द्वारा विभाग की सुरक्षा संबंधित खामियों को उजागर करने के लिए रेलवे ने लांच की वेबसाइट
इन शर्तों का करना होगा पालन
टिकट को ट्रांसफर करने के लिए आपको ट्रेन के निर्धारित समय से 24 घंटे पहले अपनी एप्लिकेशन आईडी प्रूफ चीफ रिजर्वेशन सुपरवाइजर के पास जमा करानी होगी .
रेलवे की तय गाइडलाइन के मुताबिक, टिकट ट्रांसफर की यह सुविधा सिर्फ आप अपने ब्लड रिलेशन में ही कर सकेंगे जैसे पिता, मां, भाई या बहन, बच्चे और पति या पत्नी.
मान्यताप्राप्त शैक्षणिक संस्थान के छात्र को अपना कंफर्म टिकट को ट्रांसफर करना है, तो उसे अपने संस्थान के प्रमुख से मंजूरी लेनी होगी. इस मंजूरी के बाद टिकट उसी संस्थान के दूसरे छात्र को ट्रांसफर किया जा सकता है.
टिकट ट्रांसफर कराने की यह सुविधा नेशनल कैडेट कोर के सदस्य को भी मिलेगी. इसके लिए उसे कैडेट प्रमुख से परमिशन लेनी होगी.
सरकारी कर्मचारी अपने किसी साथी या अधिकारी का नाम ट्रेन चलने के तय स्थान से 24 घंटे पहले ट्रांसफर करवा सकेंगे.
बार बार नहीं मिलेगी सुविधा
बता दें कि रेलवे की इस सुविधा का लाभ आप बार बार नहीं ले पाएंगे. वहीं याद रहे मैरिज पार्टी, एनसीसी कैडेट और छात्रों के मामले में अगर टिकट ट्रांसफर का आग्रह उस समूह के 10 प्रतिशत से अधिक हुआ तो इसकी अनुमति नहीं मिलेगी