Air Pollution Report : दुनिया में लगभग 95% आबादी जहरीली हवा का बन रही शिकार – रिपोर्ट

demo pic

Air Pollution Report : वायु प्रदूषण के सबसे अधिक पड़ने वाले प्रभाव से गरीब समुदाय की जा रही है जान.

Air Pollution Report : दुनिया की लगभग 95 प्रतिशत आबादी के लिए हर पल जहरीली हवा में सांस लेना  मजबूरी बन गई है.

बात अगर अकेले भारत की करें तो यहां की प्रदूषित हवा दिलों को दहला देने वाली है, जो लोगों को मौत के मुंह में धकेलने का काम कर रही है.
हाल ही में यूनीवर्सिटी ऑफ शिकागो के द एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट द्वारा वायु गुणवत्ता जीवन सूचकांक के आधार पर शोध करके एक रिपोर्ट तैयार की गई है.
इस रिपोर्ट के आंकड़े कहते हैं कि खराब हवा से प्रभावित होने वाली और मौत के करीब जाने वाली तकरीबन आधी आबादी भारत और चीन की है.
यही नहीं इस शोध में हैरान करने वाली बात यह है कि प्रदूषण और खराब हवा का सबसे अधिक प्रभाव गरीब समुदाय पर पड़ता है.
वहीं शहरों में रह रहे अरबों लोग आज असुरक्षित हवा में खौफ के साथ जीने को मजबूर हैं, जबकि ग्रामीण इलाकों के लोग ठोस ईंधन जलाने के कारण वायु प्रदूषण का सामना करते हैं.
यह भी पढें – एंटीबायोटिक दवाओं के प्रभाव से दुनिया भर में हर साल जाती है 5 लाख लोगों की जान- अध्ययन
स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया की शहरों और ग्रामीण तबके की आबादी में प्रति तीन में से एक व्यक्ति घर के भीतर और बाहर दोनों जगह असुरक्षित हवा में सांस ले रहा है.
रिपोर्ट के यह चौंकाने वाले आंकड़े दिन-ब-दिन और तेजी से बढ़ते जा रहे हैं, जिसके आगे और विकराल रुप लेने का अंदेशा हैं.
बता दें कि अमेरिका में हैल्थ इफैक्ट्स इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने सेटेलाइट की मदद से उन लोगों की संख्या का अनुमान लगाया है जो विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा वायु प्रदूषण के सुरक्षित माने जाने वाले स्तर से अधिक स्तर के प्रदूषण में सांस ले रहे हैं.
जाहिर है कि दुनियाभर में वायु प्रदूषण अब सबसे बड़ी समस्या बन गया है. जिसका तेजी से गहरा रहा साया लोगों की सेहत के लिए सबसे बड़ा जोखिम है और साथ ही विश्वभर में होने वाली मौत का चौथा सबसे बड़ा कारण भी बन हुआ है.