Home हेल्थ रिपोर्ट राज्य की गरीब महिलाओं के स्तन प्रत्यारोपण का पूरा खर्च उठाएगी तमिलनाडु...

राज्य की गरीब महिलाओं के स्तन प्रत्यारोपण का पूरा खर्च उठाएगी तमिलनाडु सरकार

SHARE
Tamil Nadu Free Cosmetic Surgery
demo pic

Tamil Nadu Free Cosmetic Surgery : स्तन कैंसर से जूझ रही महिलाओं के उपचार में मिलेगी मदद

Tamil Nadu Free Cosmetic Surgery : भारत की तमिलनाडु सरकार और राज्य स्वास्थ्य विभाग ने एक सरकारी मेडिकल कॉलेज में महिलाओं के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी क्लिनिक की शुरूआत की है.

खास बात यह है कि इस क्लिनिक की सहायता से राज्य सरकार ने महिलाओं के लिए मुफ्त ब्रेस्ट ट्रांसप्लांट सर्जरी कराने का फैसला लिया है.
आपको बता दें कि तमिलनाडु के स्टेनली मेडिकल कॉलेज के इस क्लिनिक से राज्य के हर गरीब तबके की महिलाएं  सौंदर्य उपचार का भरपूर लाभ उठा पाएंगी वो भी बिल्कुल फ्री.
गौरतलब है कि दुनिया के किसी भी देश में इस तरह का उपचार काफी महंगा होता है जिसका खर्च समाज के नीचले तबके के लोग नहीं उठा पाते.
एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक इस सौन्दर्य उपचार को कराने वालों में केवल अमीरों और धनवान लोग ही शामिल होते रहे हैं.
राज्य स्वास्थ्य मंत्री सी विजया बस्कर का कहना है कि सरकार का यह मुफ्त सेवा प्रस्ताव कई मायने में महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि आमतौर पर स्तन प्रत्यारोपण के अधिक खर्चीला होने के कारण महिलाएं कई गलत तरीके चुन लेती हैं.
यही नहीं खुद को आकर्षक दिखाने या स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं पर इसका इलाज कराने के लिए अधिक राशि का कर्ज भी हो जाता है.
यह भी पढ़ें Kidney Stone : महिलाओं में बढ़ रहे हैं किडनी स्टोन के मामले, इन लक्षणों को ना करें अनदेखा
क्या है कॉस्मेटिक सर्जरी
आपको बता दें कि स्तन प्रत्यारोपण सबसे आम कॉस्मेटिक सर्जरी है. इस सर्जरी को स्तनों को पूरे आकार में लाने या स्तन कैंसर के शिकार लोगों को निजात दिलाने के लिए किया जाता है.
फिलहाल डॉक्टर्स ब्रेस्ट के आकार को बढ़ाने वाली शल्य-चिकित्सा की योजना बना रहे हैं हालांकि सरकार द्वारा शुरु की गई ये स्तन सर्जरी किसी शारीरिक बीमारियों से छुटकारा नहीं दिलाएगी लेकिन महिलाओं के आत्मविश्वास को बढ़ावा जरूर देगी.
इसके अलावा स्तन कैंसर के इलाज या स्तन प्रत्यारोपण के अतिरिक्त मरीज इस क्लिनिक से बच्चों के लिए होठों की सर्जरी और दूसरी जरूरी महंगी सर्जरी भी करवा पाएंगे
लेकिन जैसा कि अक्सर देखा जाता है कि सरकार की जनकल्याण सेवा समर्थकों के लिए जितनी अच्छी बनकर आती हैं उतनी ही आलोचकों के लिए बुरी भी होती हैं.
ऐसे ही सरकार की इस पेशकश पर भी सवाल उठाते हुए आलोचकों ने तीखा प्रहार कर कहा है कि क्या राज्य सरकार को बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल को नजरअंदाज कर कॉस्मेटिक सर्जरी के लिए खर्च करना उचित रहेगा.
यह भी पढ़ें – Cancer Blood Test : सिर्फ एक ब्लड टेस्ट से की जा सकेगी 8 प्रकार के कैंसर की पहचान
राज्य में महिलाओं को मिल रहा महत्व
तमिलनाडु के पूर्व दिवंगत जयललिता के कार्यकाल या उसके बाद भी राज्य सरकार ने महिलाओं से जुड़ी योजनाओं  को बेहद तेजी से आगे बढ़ा है.
मुफ्त क्लिनिक के उद्घाटन के अलावा जयललिता के 70 वीं जन्मदिन पर उनकी सरकार ने महिलाओं को और अधिक सशक्त करने के उद्देश्य से उनके दोपहिया खरीदने पर 25 हजार रुपए की सब्सिडी देने वाली ‘अम्मा दुपहिया वाहन योजना’ की भी शुरुआत कर दी है, जिसका अनवारण शनिवार को खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया.
आलोचकों ने बताया गैरजरूरी
इस बारे में पूर्व सार्वजनिक स्वास्थ्य निदेशक डॉ एस एलंगो का भी कहना है कि यह योजना जितनी लुभावनी लग रही है उतनी ही अंदर से खोखली भी नजर आ रही है.
आए दिन नई गंभीर बीमारीयां राज्य में पैर पसारती जा रही हैं, उन तमाम बीमारियों के लिए भी राज्य सरकार की धनराशि की आवश्यकता होती है. ऐसे में यह सरकार गंभीर बीमारियों की सर्जरी के बजाय सौंदर्य पर ध्यान केंद्रित कर रही है.
वैसे देखा जाए तो यकीनन, सरकार की यह पेशकश काफी लाभदायी साबित हो सकती है लेकिन आलोचकों के उठाए गए जायज सवालों को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.
वहीं हेल्थ इंडेक्स की रिपोर्ट पर नजर डालें तो तमिलनाडु देश का तीसरी सबसे अच्छी स्वास्थ्य सेवा देने वाला राज्य बन गया है जबकि केरल और पंजाब पहले और दूसरे स्थान पर हैं.