Home ह्मयूमन कनेक्शन America Young Scientist Challenge : युवा वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणा बनी भारतीय...

America Young Scientist Challenge : युवा वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणा बनी भारतीय मूल की गीतांजलि राव

SHARE
AMERICA YOUNG SCIENTIST challenge

America Young Scientist Challenge : पानी में लेड का पता लगाने के लिए निकाला सस्ता तरीका

America Young Scientist Challenge : अमेरिका में रहने वाली भारतीय मूल की गीतांजलि राव ने पानी में लेड (सीसा) का पता लगाने के लिए सस्ता तरीका निजात किया है.

गीतांजली को उनकी इस खोज के लिए अमरीका का टॉप यंग साइंटिस्ट अवॉर्ड से भी नवाजा गया है.
11 वर्षीय गीतांजली कम उम्र में ही एक ऐसी महान आविष्कारक बन गई हैं, जो दुनियाभर में उन तमाम बच्चों की प्रेरणा का स्त्रोत होंगी जो वैज्ञानिक बनने का सपना देख रहे हैं.
आपको बता दें कि वर्तमान में पानी मे सीसा का पता लगाने के लिए काफी महंगी जांच होती है. लेकिन गीतांजलि की इस खोज के बाद इसपर लगने वाली लागत काफी कम होने की उम्मीद है.
गौरतलब है कि अमेरिका में हज़ारों जल स्रोत सीसा की वजह से प्रदूषित हैं.
इसी कारण गीतांजलि ने अपनी खोज की शुरुवात 2014-15 में अमेरिका के मिशिगन प्रांत के फ्लिंट शहर से की जो जल प्रदूषण का एक मुख्य केंद्र है.
यह भी पढ़ें – HIV TEST : 10 सेकेंड में स्मार्टफोन बताएगा HIV है या नहीं
स्मार्टफोन से पता चलेगा पानी में सीसा की मात्रा
America Young Scientist Challengeगीतांजलि ने जो उपकरण बनाया है उसे आप कहीं भी लेकर जा सकते है. इसके साथ ही आप उसे स्मार्टफोन की मदद से मोबाइल ऐप के जरिए भी पानी में लेड के होने का तुरंत पता लगा सकते हैं.
गीतांजलि ने ‘बिज़नेस इनसाइडर’ की कॉन्फ्रेंस में बताया कि पानी में लीड का पता लगाने के लिए उसने कार्बन नैनोट्यूब डिवाइस का इस्तेमाल किया है.
इसके अलावा उन्होंने यह भरोसा भी दिलाया है कि भविष्य में वह अपने इस प्रयोग को ओर बेहतर बनाने के लिए आगे और काम करती रहेंगी.
यह भी पढ़ें Israel Agriculture Technology : इजरायल रक्षा उपकरणों में ही नहीं, आधुनिक खेती में भी है बिग बॉस
सीसा युक्त पानी के दुष्परिणाम
America Young Scientist Challengeगींताजली ने बताया कि अगर आप कभी सीसा युक्त पानी से नहाते हैं तो आपके शरीर पर सफेद चकत्ते पड़ने शुरू हो जाते होंगे. जिसका पता केवल त्वचा रोग विषेषज्ञ ही लगा सकता है.
और अगर कहीं कोई इस पदार्थ से मिला हुआ पानी पीले तो उसे गंभीर रोगों का शिकार होना पड़ सकता है.
यह भी पढ़ें – Afghanistan Girl Education: अफगान की दो तिहाई लड़कियां स्कूल नहीं जाती- रिपोर्ट
ग्रीक देवी पर पड़ा उपकरण का नाम
America Young Scientist Challengeगीतांजली के इस उपकरण का नाम शुद्ध पानी की देवी कहे जाने वाली टेथीज़ के नाम पर पड़ा है.
ग्रीक की मान्यताओं में टेथीज को साफ पानी की देवी कहा जाता है.
इस अवार्ड के साथ गीतांजली को 16.22 लाख रुपये की राशि भी इनाम के रुप में  दी गई है.
 For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus