Home ह्मयूमन कनेक्शन Chotu Sharma : नौकरी नहीं मिली तो खोल डाली सॉफ्टवेयर कंपनी, आज...

Chotu Sharma : नौकरी नहीं मिली तो खोल डाली सॉफ्टवेयर कंपनी, आज 10 करोड़ सालाना है कमाई

SHARE
chotu sharma
फोटो साभार - डीजी

Chotu Sharma : ऑफिस ब्वॉय से करी शुरूआत

Chotu Sharma : आपने मार्क जुकरबर्ग के बारे में तो सुना ही होगा कि किस तरह नौकरी ना मिलने का मलाल उनके दिल में ऐसा अखरा कि उन्होंने फेसबुक ही बना डाली.

कुछ ऐसा ही हिमाचल प्रदेश के छोटू ने भी कारनामा करके दिखाया है. कुछ साल पहले तक छोटू को भी नौकरी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा था.
मगर छोटू ने उस हालात में घबराने की बजाए यह ठाना लिया कि अब उसे भी कुछ ऐसा ही करना है, जिससे दुनिया उसे हमेशा के लिए याद रखे.
यह भी पढ़ें – UAN Allotment : प्राइवेट कर्मचारियों के लिए बड़े काम की खबर, जरूर पढ़ें
गरीबी को दी मात, आज सब करते हैं सलाम
छोटू हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के नेहरां पुखर गांव के रहने वाले हैं. छोटू का जन्म बेहद गरीब परिवार में हुआ था जिस वजह से उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई सरकारी स्कूल में ही की.
इसके बाद वर्ष 1998 में ग्रेजुएशन करने के बाद वो चंडीगढ़ नौकरी के लिए आए, लेकिन उन्हें कहीं नौकरी नहीं मिली.
छोटू को नौकरी ना मिलता देख कई लोगों ने उन्हें कंप्यूटर कोर्स करने की सलाह दी. लेकिन उस समय कंप्यूटर कोर्स की महंगी फीस जानकर वो घबरा गए.
छोटू के पिता के पास भी इतने पैसे नहीं थे कि वो अपने बेटे की इस इच्छा को पूरा कर सके. लेकिन छोटू ने हिम्मत नहीं हारी और एक कंप्यूटर सेंटर ज्वॉइन कर लिया जहां वो कंप्यूटर कोर्स सीखने लगे.
इस सेंटर में छोटू पढ़ाई के साथ साथ आफिस ब्वॉय का काम भी करते थे और अपनी फीस का भुगतान वहां काम करने के एवज में मिलने वाले मेहनताना को ना लेकर करते थे.  इस तरह छोटू ने अपना कंप्यूटर कोर्स पूरा किया.
जब कोर्स पूरा हुआ तो छोटू को इंस्टीट्यूट में ही क्लास देने की जॉब मिल गई. दो साल का अनुभव लेने के बाद छोटू के संपर्क बढ़ने लगे और फिर उसने सॉफ्टवेयर बनाना भी शुरू कर दिया. जिसमें उसे भविष्य की बहुत संभावनाएं नजर आई.
वर्ष 2००9 में उन्होंने मोहाली में जमीन खरीदकर अपनी कंपनी ‘CS Soft Solution’ स्थापित की. यह कंपनी कई बड़ी कंपनियों को सॉफ्टवेयर सर्विसेस उपलब्ध करवाती है.
 छोटू ने आईटी के क्षेत्र में सालों कड़ी मेहनत की और आज आज उनकी ये कंपनी 10 करोड़ रूपये सालाना कमा रही है.
यह भी पढ़ें Colonel Ajay Kothial : पहाड़ों पर नौजवानों के पलायन रोकने के लिए कर्नल साहब चला रहे खास कैंप
गरीबी को कभी भूलना नहीं चाहते
छोटू कंप्यूटर सेंटर भी चला रहे हैं, जहां जरूरतमंद बच्चों को कंप्यूटर की निशुल्क क्लास भी दी जाती है. छोटू कहते है कि वो गरीबी से निकले हैं, इसलिए गरीब बच्चे की परेशानी को बखूबी समझते हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus