Home ह्मयूमन कनेक्शन गुजरात के एक मुस्लिम ने उठाया 500 वर्ष पुराने हनुमान मंदिर के...

गुजरात के एक मुस्लिम ने उठाया 500 वर्ष पुराने हनुमान मंदिर के जीर्णोद्धार का सारा खर्च

SHARE
Muslim Man Renovate Temple

Muslim Man Renovate Temple : इटली से मंगाई भगवा टाइल

Muslim Man Renovate Temple : भारत में हिंदू मुस्लिम के बीच होने वाले दंगे अब आम हो चुके हैं ,हर दिन देश के किसी ना किसी कोने में इन दोनों समुदायों के बीच हिंसक झड़प की खबरें अखबारों की सूर्खियों में छाई रहती हैं.

साल 1992 में हुए मुंबई दंगे से लेकर 2002 में गुजरात में हुए गोधरा कांड तक हर जगह लोगों ने धर्म के नाम पर एक दूसरे के खिलाफ हिंसा फैलाने का काम किया .
लेकिन इसके बावजूद भी रह रहकर हमारे सामने ऐसे उद्हारण आ जाते हैं जो साबित करते हैं कि देश में आपसी भाईचारे से बढ़कर और कुछ नहीं है.
ऐसा ही एक उदाहरण पेश किया है अहमदाबाद के एक मुस्लिम युवक मोइन मेमन ने जो 500 साल पुराने  हनुमान मंदिर की मरम्मत करने का जिम्मा उठाया है.
43 वर्षीय इस बिलडर ने पिछले दो हफ्तों से लगभग अपना सारा समय मिर्जापुर के इस 500 साल पुराने मंदिर की मरम्मत करने के लिए दे दिया है. यही नहीं वह खुद इस पूरी मरम्मत की देखरेख भी कर रहे हैं.
मेमन ने खुद को हनुमान भगवान का भक्त बताते हुए मंदिर के रेनोवेशन में आने वाले सारे खर्च का जिम्मा अपने कंधो पर ले लिया है. ऐसा करने के लिए उन्होंने बकाएदा मंदिर के पुजारी राजेश भट्ट की अनुमति भी ली है.
यह भी पढ़ें – Veerabhadra Temple : भारत के इस मंदिर के रहस्य को आज तक दुनिया का कोई इंजीनियर नहीं सुलझा सका
मेमन बताते हैं कि उन्होंने मंदिर को उस दौर में देखा है जब वह बेहद अच्छी स्थिति में था. उसके बाद जब भी वो इसके सामने से गुजरते हैं तो इसकी हालत देखकर उन्हें दुख होता था.
मेमन ने कहा कि इससे परेशान होकर उन्होंने मंदिर के पुजारी जी से संपर्क किया और उसके पुनर्निर्माण के लिए पेशकश की.
पिछले 30 सालों से हनुमान मंदिर में अपनी सेवाएं देने की पेशकश करने वाले मेमॉन भट्ट ने बताया कि उन्होंने विशेष रूप से भगवान के मुखिया के लिए इटली से भगवा रंग की टाइल का ऑर्डर दिया है.
वहीं मंदिर के पुजारी राजेश भट्ट ने इस बारे में कहा कि यह एक सांस्कृतिक सद्भावना और समूचे देश के लिए भाईचारे का उदाहरण है.
इसके अलावा श्री एक लिंगजी महादेव मंदिर के पुजारी व्रजेश मेहता ने कहा है कि ‘हनुमान दादा’ ने मेमन को पुनर्जीवित करने के लिए प्रेरित किया होगा तभी पैसे के बारे में बिना सोचे मंदिर के लिए इतना कुछ करने का विचार मेमन को आया होगा.