Home ह्मयूमन कनेक्शन Rajasthan Blood Man : 30 वर्षों से ये अनपढ़ मजदूर ‘ब्लड मैन’...

Rajasthan Blood Man : 30 वर्षों से ये अनपढ़ मजदूर ‘ब्लड मैन’ बनकर बचा रहा लोगों की जिंदगी

SHARE
rajasthan blood man
फोटो साभार - एचटी

Rajasthan Blood Man : बेटे की शादी में भी लगाया रक्तदान शिविर

Rajasthan Blood Man : 50 वर्षीय अमर सिंह एक अनपढ़ देहाड़ी मजदूर हैं पर बेशक वह हम जैसे पढ़े-लिखे लोगों को जीवन में इंसानियत का बड़ा पाठ पढ़ा रहे हैं.

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के श्योदाणपुरा गांव के लोग अमर सिंह को ‘बल्ड मैन’ के नाम से जानते हैं. क्योंकि इस अनपढ़ मजदूर ने अपनी स्वेच्छा से 73 बार रक्तदान किया है, और सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने राजस्थान, हरियाणा और पंजाब में 330 रक्त दान शिविरों का आयोजन भी कराया है.
बेटे की शादी में लगाया रक्तदान शिविर
अमर सिंह ने रक्तदान के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए 2007 में अपने बेटे के विवाह स्थल पर भी रक्तदान शिविर आयोजित किया था जहां उनके परिवार के सदस्यों और मेहमानों ने 114 यूनिट रक्त का दान किया था.
इसके अलावा उन्होंने 2011 में अपनी मां की मृत्यु के बाद भी इसी तरह के शिविर का आयोजन किया था.
यह भी पढ़ें – Uttarakhand Santa : गरीब बच्चों के सेंटा हैं विजेंद्र, गार्ड की नौकरी से संवार रहे कई भविष्य
कहां से मिली प्रेरणा
अमर सिंह बताते हैं कि उनकी जीवन में घटी एक घटना ने इस बात का एहसास दिलाया कि किस तरह रक्तदान करने से लोगों को मौत से बचाया जा सकता है.
उन्होंने एक पुरानी घटना का जिक्र करते हुए बताया कि साल 1985 में रोजाना की तरह वो उस दिन भी अपनी साइकिल पर काम करने जा रहे थे तभी उन्होंने रोड पर एक सिख आदमी को पड़ा हुए देखा जिसका एक्सिडेंट हो चुका था.
इसके बाद उन्होंने उसे सिरसा (हरियाणा) के एक अस्पताल में भर्ति कराया जहां डॉक्टरों ने उसकी जान बचाने के लिए उनसे रक्त दान करने को कहा. डॉक्टर के कहने के बाद उन्होंने रक्त दान किया जिससे उस सिख की जिंदगी बच गई.
रक्तदान के बाद अमर सिंह को इस काम से बहुत संतुष्टि मिली और तबसे उन्होंने इसे अपना जीवन का मिशन बना लिया है. आपको बता दें कि रक्तादन के लिए अमर सिंह किसी भी तरह का कोई पैसा नहीं लेते.
पिछले तीस सालों में अमर सिंह इंडियन सोसाइटी ऑफ़ ब्लड ट्रांसफ्यूयन एंड इम्यूनोहामामेटोलॉजी (आईएसबीटीआई) और अन्य सामाजिक संगठनों की मदद से कई बार रक्त दान शिविरों का आयोजन कर चुके हैं.
यह भी पढ़ें – 18th Sanctuary Award : वन्य जीवों के संरक्षण में योगदान के लिए इन्हें मिला ‘सैंक्चुअरी एशिया’ अवार्ड
कई बार हो चुकें है सम्मानित
आईएसबीटीआई प्रमुख और सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी डॉ युधिबीर सिंह भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि उनके पास रिकॉर्ड है कि अमर सिंह ने 73 बार रक्त दान किया है और 330 रक्त दान शिविरों का आयोजन भी किया है.
गौरतलब है कि अमर सिंह को उनके इस बेहतरीन काम के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री,राज्यपाल,बाबा रामदेव,पूर्व मंत्री दिगम्बर सिंह के आलावा जिला स्तर पर कई बार सम्मानित किया जा चुका है.

साभार – एचटी
For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus