Home ह्मयूमन कनेक्शन तलाक.. तलाक.. तलाक.. अब नहीं बोलेंगे भाई जान, शायरा बानों तेरे जज्बे...

तलाक.. तलाक.. तलाक.. अब नहीं बोलेंगे भाई जान, शायरा बानों तेरे जज्बे को सलाम

SHARE
demo pic
demo pic
सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को लगभग 1400 वर्षों से चली आ रही तीन तलाक की प्रथा को हमेशा के लिए खत्म कर दिया हैं. इस फैसले के बाद जहां एक तरफ देश की सभी मुस्लिम औरतों के बीच खुशी का माहौल है तो वहीं दूसरी तरफ धर्म को लेकर कट्टर सोच रखने वाले इसे अपने अधिकारों पर हमला मान रहे हैं.
खैर उनकी सोच जो भी हो मगर अब भारत में तीन तलाक को कानूनी रूप से अमान्य करार दे दिया गया है.
इस ऐतिहासिक फैसले के पीछे की मुख्य नायिका उत्तराखंड की शायरा बानों हैं . जिन्होंने तीन तलाक को लेकर तमाम दिक्कतों का सामना करते हुए अपने धर्म के खिलाफ जाकर कानूनी जंग छेड़ी थी.
शायरा बानों के जज्बे को सलाम
शायरा बानों को जब उनके पति द्वारा तलाक मिला तो वह भी दूसरी महिलाओं की तरह चुप बैठ सकती थी. तीन तलाक को अपने पूर्वजों और धार्मिक रीतियों को दोष देकर सब दोष अपनी किस्मत पर मढ़ सकती थी, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.
एक अनपढ़ महिला होने के बावजूद उन्होंने इस धार्मिक कुरीति से लड़ने का निर्णय लिया, क्योंकि वह जानती थी कि मुस्लिम महिलाओं के चुप बैठने से ही यह धार्मिक कुरीति उनके समाज में लगातार जड़ें फैलाने में सफल रही है. अगर उन्होंने हिम्मत नहीं दिखाई होती तो वो भी उन मुस्लिम महिलाओं के फेहरिस्त में शामिल हो जाती, जो अपने शौहरों की तीन तलाक के रूप में प्रताड़ना को झेलती रहती हैं.
अभिनेत्री मीना कुमारी भी थी तीन तलाक से पीड़ित
फोटो साभार- इंडियन एक्सप्रेस
फोटो साभार- इंडियन एक्सप्रेस
ऐसा नहीं है कि तीन तलाक जैसी मुस्लिम कुप्रथा का शिकार सिर्फ अनपढ़ और कमजोर वर्ग की मुस्लिम महिलाएं ही होती हैं. आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि भारतीय फिल्म जगत की जानीमानी अभिनेत्री मीना कुमारी भी तीन तलाक का शिकार हो चुकी थीं.
मीना कुमारी का निकाह पाकीजा फिल्म के निर्देशक कमाल अमरोही के साथ हुआ था. एक बार कमाल अमरोही को किसी बात पर इतना ज्यादा गुस्सा आया कि उन्होंने अपनी पत्नी मीना कुमारी को तीन बार तलाक-तलाक बोलकर तलाक दे दिया.
लेकिन इसके कुछ दिन बाद कमाल अमरोही को अपनी इस हरकत पर पछतावा हुआ, और उन्होंने मीना कुमारी से माफी मांगी. जिसके बाद दोनों ने फिर से एक साथ रहने का फैसला किया.
लेकिन मुस्लिम प्रथा के अनुसार, दोनों को दोबारा निकाह करने से पहले पत्नी को हलाला (दूसरे किसी मर्द के साथ हमबिस्तर ) होना जरूरी था. इसके लिए कमाल अमरोही ने मीना कुमारी का निकाह अमान उल्ला खान (जीनत अमान के पिता) से करवाया. इसके बाद मीना कुमारी को नए शौहर के साथ हमबिस्तर होना पड़ा था. तब जाकर मीना कुमारी और कमाल अमरोही का दोबार निकाह हुआ था.
खुद के हलाल होने का अफसोस मीना कुमारी को उम्र भर रहा. इसी वजह से उन्होंने शराब पीना भी शुरू कर दिया था, जिसकी वजह से उनकी मृत्यु महज 39 साल में ही हो गई थी.
यही नहीं केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकव़ी की बहन फरहत नकवी भी तीन तलाक का शिकार हैं.