Home ह्मयूमन कनेक्शन यूपी के छोटे शहर से पढ़ाई कर बेटी बनीं अमेरिका में वैज्ञानिक,...

यूपी के छोटे शहर से पढ़ाई कर बेटी बनीं अमेरिका में वैज्ञानिक, देश हुआ गौरवान्वित

SHARE
UP Girl Scientist
demo pic

UP Girl Scientist : गोंडा के मध्यमवर्गीय परिवार की हैं डॉ अनुराधा

UP Girl Scientist : लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती….. सोहनलाल द्विवेदी की लिखी इस कविता को हम आप बचपन से पढ़ते आए हैं मगर इसे सच गिने चुने लोग ही कर पाते हैं और उन्हीं में से एक है यूपी की बेटी अनुराधा गुप्ता

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में जन्मी अनुराधा ने अपनी पढ़ाई के प्रति मेहनत और लगन से आज अमेरिका की विश्व विख्यात पेंसिलवेनिया यूनिवर्सिटी में वैज्ञानिक बन गई हैं.
खास बात यह है कि एक मध्यमवर्गीय परिवार और छोटे शहर से ताल्लुक रखने वाली अनुराधा के लिए इस मुकाम तक पहुंचना कोई आसान काम नहीं था.
आइए जानते हैं अनुराधा के गोंडा से अमेरिका तक के सफर के बारे में
UP Girl Scientist
डॉ अनुराधा गुप्ता
पिता चलाते हैं स्टेशनरी की दुकान
गोंडा के पटेल नगर में एक छोटे से घर में अनुराधा अपने माता पिता के साथ रहती हैं. उनके पिता राम सुंदर गुप्ता एक छोटी सी स्टेशनरी की दुकान चलाते हैं और उनकी माता सत्यवती गुप्ता एक गृहणी है.
पिता राम सुंदर ने एनबीटी को बताया कि उनकी बेटी बचपन से ही वैज्ञानिक बनना चाहती थी.
यह भी पढ़ें – हिमाचल की गीता दुर्गम पहाड़ियों पर बच्चों को बना रही रोगमुक्त, WHO Calendar 2018 में मिली जगह
गोंडा से किया बीएससी
अनुराधा ने अपनी स्कूली और ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई गोंडा से ही पूरी की. लाल बहादुर शास्त्री महाविद्यालय गोंडा से बीएससी की पढ़ाई पूरी करने के बाद अनुराधा ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय में भौतिक विज्ञान की एमएससी की कक्षा में दाखिला ले लिया.
डॉ अनुराधा बताती हैं कि बीएससी करते समय एक प्रतियोगिता में विजयी होने के बाद उन्हें बीएचयू में एक सप्ताह का भ्रमण और वैज्ञानिकों से मिलने का मौका मिला था जिससे उनके वैज्ञानिक बनने के लक्ष्य को और मजबूती मिल गई .
मजबूत इरादों से सबकुछ पाना आसान
डॉ अनुराधा गुप्ता ने बताया कि उनके अनुसार कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं होता बस जरूरत है उसे पाने के लिए मजबूत इरादों की. उन्होंने कहा कि एक साधारण परिवार का व्यक्ति भी अपने दृढविश्वाश और कड़ी मेहनत की बदौलत अपना लक्ष्य पा सकता है.
यह भी पढ़ें – Widow Mother Remarriage : राजस्थान की बेटी ने विधवा मां की दूसरी शादी रचाकर समाज को दिखाया नया आइना
फिलहाल डॉ महोदया इस समय अमेरिका के उन वैज्ञानिकों के समूह में काम कर रही जो गुरुत्वाकर्षण मे नोबेल पुरस्कार प्राप्त कर चुके हैं.
गौरतलब है डॉ अनुराधा ने ये मुकाम हासिल कर ना सिर्फ अपना बल्कि पूरे देश का नाम रौशन कर दिया है.
गोंडा जैसे छोटे शहर से अपनी पढ़ाई की शुरूआत करने वाली अनुराधा उन तमाम लड़के – लड़कियों के लिए एक बेहतर उदाहरण बन गई हैं जो ये सोचते हैं कि पढ़ लिखकर बड़ा बनने का अवसर सिर्फ शहर वालों के पास ही है.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus