Home ह्मयूमन कनेक्शन Vaccination Reminder App : इस लड़की के ऐप की मदद से मां-बाप...

Vaccination Reminder App : इस लड़की के ऐप की मदद से मां-बाप लगवा सकेंगे बच्चों को सही समय पर टीका

SHARE
vaccination reminder app
फोटो साभार - फेसबुक

Vaccination Reminder App : स्मार्टफोन की नहीं है जरूरत

Vaccination Reminder App : अगर आज हम पोलियो मुक्त देश बने हैं तो इसमें सरकारी अभियान के साथ-साथ इसका श्रेय हमारे मां बाप की जागरूकता को भी जाता है.

हम लोगों के बचपन में ही हमारे मां -बाप ने घातक बिमारियों से बचाने के लिए हमें ना जाने कितने टीके लगवाएं होंगे. जिसका नतीजा यही है कि आज हम में से ज्यादातर लोग एक बेहतर स्वास्थ्य जिंदगी बिता रहे हैं.
हालांकि हम सभी बच्चों को इस श्रेणी में नहीं रख सकते क्योंकि उस समयकालिन भी जागरूकता की कमी या कम पढ़ें लिखे होने की वजह से कई परिवार के बच्चों को बिमारियों से बचाने वाले ये टीके नहीं लग पाते थे. यही नहीं बल्कि भारत में आज भी ऐसे बच्चों की कोई कमी नहीं है जो इन टीकों से महरुम हैं, और इसका असर उनकी सेहत पर पड़ा है.
यह भी पढ़ें – Chennai Community Fridge: ईसा फातिमा का ये फ्रिज गरीबों को मुफ्त दे रहा खाना और कपड़ा
टीकाकरण की जरुरत 
हमारे शरीर में शीशु अवस्था में ही खसरा, चेचक, न्युमोकोकल रोग जैसी कई प्रकार की बिमारियों से बचने के लिए टीके लगवाना अनिवार्य रहता है. ये टीके शिशु के शरीर के अंदर जाकर उसके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देते हैं .
हर बिमारी से बचने के लिए अलग अलग तरीके के टीके लगाए जाते हैं जिसका लाभ उम्र के व्यस्क पड़ाव तक मिलता रहता है.
 एक लंबे समय से देश में कई एनजीओ और भारत सरकार मिलकर शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण को लेकर जागरुकता फैला रहे हैं. इसी कोशिश में मुंबई की स्वाति हम्बाड भी देश के दूर दूराज के अगड़ो पिछड़ों परिवारों तक बच्चों को टीका दिलाने के लिए अपना सफल प्रयास कर रही हैं.
दरअसल स्वाति ने एक ऐसा ऐप विकसित किया है जो लोगों को उनके बच्चे के टीकाकरण के लिए अलार्म की तरह रिमाइंडर देता है. इस रिमाइंडर मेसेज में उन्हें याद दिलाया जाता है कि उन्हें अपने बच्चे को कौन सा टीका किस दिन लगवाना है. स्वाति के द्वारा की गई इस कोशिस का नाम है फॉलो ऐप .
vaccination reminder app
फोटो साभार -फेसबुक
कैसे काम करता है फॉलो ऐप
इस ऐप के जरिए परिवार के रजिस्टर मोबाइल पर टीकाकरण की याद दिलाने के लिए सॉफ्टवेयर की मदद से एक ऑटो जनरेटेड फोन किया जाता है. कॉल में मां और बच्चे दोनों का नाम लिया जाता है और उनके अगले टीकाकरण के बारे में बताया जाता है.
यह भी पढ़ें – Inclov Mobile App : दिव्यांगों के लिए बने इस खास डेटिंग ऐप से जीवनसाथी तलाशने में मिल रही मदद
सोफ्टवेयर से जो कॉल की जाती है उसमें सवाल पूछा जाता है कि क्या उन्होंने टीकाकरण कराया या नहीं. अगर जवाब हां है तो 1 दबाना होता है और ना है तो 2.
वहीं अगर कोई जवाब नहीं मिलता है तो तीन, पांच और दस दिन बाद फिर से उन्हें इस बारे में याद दिलाने के लिए कॉल की जाती है. यही नहीं  उनकी इस कॉल को रिकॉर्ड भी किया जाता है ताकि जानकारी देने वालों की प्रतिक्रिया समझी जा सके.
स्मार्टफोन की नहीं है जरूरत
इस ऐप की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके इस्तेमाल के लिए किसी प्रकार के स्मार्टफोन होने की जरूरत नहीं है. वेब बेस एपलिकेशन के जरिए कॉल अपने आप जनरेट होती है.
द बेटर इंडिया को दिए अपने इंटरव्यूह में स्वाति ने कहा कि उन्हें यह ऐप बनाने की प्रेरणा तब मिली जब वह ‘स्नेह’ नाम के एनजीओ के साथ काम कर रही था.
यह भी पढ़ें–  Akshaya Shanmugam : नशा छुडाने के लिए देश की इस लड़की ने बनाई डिवाइस, फोर्ब्स की सूची में मिली जगह
उन्होंने बताया कि एक दिन एनजीओ के काम से ही वो स्लम में जाकर एक ऐसी औरत से मिली जिन्हें अपने बच्चे की उम्र तक याद नहीं थी. ऐसे में उन्हें एहसास हुआ कि जिस महिला को उसके बच्चे की उम्र तक नहीं याद उसके लिए कितना मुश्किल होता होगा उसके बच्चे के टीकाकरण की तारीखें याद करना.
सरकार को भी मिलेगी मदद
गौतरतलब है कि पीछे साल सितंबर में स्वाति ने इस ऐप का पहला ड्रफ्ट तैयार किया, जिसके टेस्ट के लिए पहले 100 औरतों को इससे जोड़ा गया. आज इसकी सफलता ही है कि देश की 500 औरतें इससे जुड़ चुकी हैं. यह स्वास्थ्य जगत के लिए एक नायाब खोज है.
वहीं इस ऐप से इस बात का भी ट्रैक रखा जा सकता है कि किस क्षेत्र में किस बिमारी का टिकाकरण कितना प्रतिशत हो रहा है जो सरकार के लिए भी जानकारी एकत्र रखने के लिए एक अच्छा प्लेटफार्म साबित हो सकता है.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus