कौन है बाबा आमटे जिन पर गूगल ने बनाया है आज का डूडल,जानें

baba amte google doodle

Baba Amte Google Doddle : कुष्ट रोगियों और पर्यावरण के क्षेत्र में किए है कई प्रशंसनीय कार्य

Baba Amte Google Doddle :  सर्च इंजन गूगल ने आज भारत के प्रसिद्ध समाजसेवी बाबा आमटे की 104वीं जयंति पर डूडल बनाकर उन्हें याद किया है.

गूगल ने अपने इस खास डूडल में बाबा आमटे की जिंदगी में किए गए समाज सेवा के कार्यों पर एक स्लाइट तैयार की है.
बता दें कि इस स्लाइट में पांच फोटो को जोड़ा गया है जिसमें उनके कुष्ठ रोगियों की मदद और सामाजिक कार्यों को दर्शाया गया है.
कौन थे बाबा आम्टे
बाबा आमटे का जन्म 26 दिसम्बर 1914 को महाराष्ट्र के वर्धा जिले में हुआ था.उनका परिवार काफी संपन्न था जिस वजह से उनका बचपन बड़ी अमीरी में गुजरा.
बाबा आमटे की शुरूआती पढ़ाई नागपुर के इसाई मिशनरी स्कूल से हुई जिसके बाद उन्होंने नागपुर विश्वविद्यालय से LLB की शिक्षा ग्रहण करी.
पढ़ें10 POINTS में जानें देश के सबसे लंबे रेल-सड़क पुल ‘बोगीबील’ की खासियत
वो अपने जीवन में महात्मा गांधी और विनोभा भावे से काफी प्रभावित थे यही वजह थी की वो अपनी वकालत की प्रैक्टिस बीच में ही छोड़कर इन लोगों के साथ जुड़ गए.
इसके साथ आने के बाद बाबा आम्टे ने साज में सुधार लाने के लिए गांवों का दौरा करने लगे और ग्रामिणों,किसानों की समस्याओं को समझने लगे.
Baba Amte Google Doddle
कुष्ट रोगियों के बने मसीहा
बामा आम्टे ने समाज में कुष्ट रोगियों के उत्थान के लिए कई कार्य किए.उन्होंने इस बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए कई आश्रमों और समुदायों की स्थापना की जिसमें चन्द्रपुर, महाराष्ट्र स्थित आनंदवन का नाम प्रमुख है.
सिर्फ कुष्ट रोगियों के लिए ही नहीं बाबा आम्टे ने अन्य क्षेत्रों में भी कई सामाजिक कार्य किए जिसे आज भी याद किया जाता है.
उन्होंने पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर गंभीरता से आवाज उठाई जिसमें वनजीव संरक्षण और नर्मदा बचाओ आंदोलन श्रेष्ठ हैं.
यही नहीं सन् 1985 में बाबा आम्टे ने कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत जोड़ो आंदोलन भी चलाया था. जिसका मकसद देश में एकता की भावना को बढ़ावा देना और पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरुक करना था.
बता दें कि बाबा आमटे का असली नाम डॉ॰ मुरलीधर देवीदास आमटे था, लेकिन उनकी समाज के प्रति निष्ठा से किए गए कामों को देखते हुए प्यार से लोग उन्हें बाबा आमटे कहकर बुलाने लगे.
पढ़ें – इंडोनेशिया में ही क्यों आती हैं सबसे अधिक प्राकर्तिक आपदा ? जानना चाहेंगे आप
कई अवार्ड नवाजे जा चुके हैं आमटे
बाबा आमटे के किए गए सामाजिक कार्यों को देखते हुए उन्हें कई नेशनल और इंटनेशनल अवार्ड से नवाजा जा चुका है,जिसमें पद्मश्री जैसा नागरिक सम्मान भी शामिल है.
इसके अलावा उन्हें मानवाधिकार के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए युनाइटेड नेशन्स अवॉर्ड, गांधी पीस अवॉर्ड, मैग्सेसे पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था.