यूपी की इस लड़की ने भारत को दिलाया ऑस्कर अवार्ड, पढें इसके बारे में

91st Oscar Awards Winner

91st Oscar Awards Winner : माहवारी पर भारत में बनी शार्ट फिल्मने जीता अवार्ड

91st Oscar Awards Winner : कैलिफोर्निया में आयोजित 91वें ऑस्कर अवार्ड्स की घोषणा की जा चुकी है.

इस बार भारत में बनी एक शार्ट डॉक्यूमेंट्री फिल्म ने भी ऑस्कर अवॉर्ड अपने नाम कर लिया है, जिसका नाम पीरियड : द एंड ऑफ सेंटेंस’ है, इसे ‘डॉक्यूमेंट्री शॉर्ट सब्जेक्ट’ श्रेणी में ऑस्कर पुरस्कार मिला है
बता दें की ये शार्ट फिल्म ग्रामीण महिलाओं की माहवारी के दौरान समस्या और सैनिटरी पैड्स की उपलब्धता के विषय पर बनी है.
इस डॉक्यूमेंट्री का निर्देशन इरानी अमेरिकन फिल्म डायरेक्टर रायका जेहताबची और मेलिसा बर्टनने किया है और इसे भारतीय प्रोड्यूसर गुनीत मोंगा की ‘सिखिया एंटरटेनमेंट‘ ने प्रोड्यूस किया है.
यही नहीं इस फिल्म में मुख्य कलाकार यूपी के हापुड़ जिले की रहने वाली स्नेहा हैं.
पढ़ें क्या है PRC ? जिसके चलते हिंसा की आग में झुलस रहा है अरुणाचल प्रदेश
91st Oscar Awards Winner
स्नेहा
कौन है स्नेहा
स्नेहा हापुड़ के रहने वाले किसान राजेंद्र की बेटी है जिसका सपना दिल्ली या यूपी पुलिस में नौकरी पाने का है,इसके लिए वो दिन रात पढ़ाई करती और रोज प्रैक्टिस करती थी.
आपको जानकार हैरानी होगी की स्नेहा पेशे से कोई एक्ट्रेस नहीं है बल्की वो भी हापुड़ की आम लड़कियों की ही तरह है.
अब आप सोच रहे होंगे की स्नेहा को फिर ये फिल्म कैसे मिली तो आपको बता दें की इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है.
दरअसल एक दिन स्नेहा से उनकी एक सहेली ने पूछा की क्या वह सेनेट्री पैड बनाने वाली फैक्टरी में काम करना पसंद करेगी?
पहले तो स्नेहा को थोड़ा अटपटा लगा लेकिन अपनी मां से पूछने के बाद उन्होंने इस काम के लिए हां कर दिया वह कुछ ही दिनों के बाद से फैक्टरी में काम करने लगी.
मीडिया से बातचीत में स्नेहा ने बताया की वो ये काम करने के लिए इसलिए राजी हो गई क्योंकी उन्हें वहां 2500 रुपये प्रतिमाह मिल रहे थे जिससे वो अपनी कोचिंग की फीस भर सकती थी.
फिर एक दिन संस्था में काम करने के दौरान ही फिल्म निर्माता गुनीत मोंगा ने उन्हें इस फिल्म के लिए रोल आफर किया जिसे स्नेहा ने स्वीकार कर लिया और आज इसी फिल्म ने उनकी जिंदगी बदल डाली.
91st Oscar Awards Winner
फिल्म से जुडेअन्य सदस्य
गौरतलब है की फिल्म पीरियड : द एंड ऑफ सेंटेंस में स्नेहा की रियल लाइफ को दिखाया गया है की कैसे वो पुल‍िस में भर्ती होना चाहती हैं,र‍िटेन एग्जाम न‍िकालने के लिए कोच‍िंग ज्वाइन करना ये सब उनकी असल जिंदगी से लिया गया है.
बता दें की डॉक्यमेंट्री में स्नेहा के साथ गांव की कई लड़कियों ने भी छोटे बड़े रोल किए हैं,जिसे भी ज्यूरी ने खूब सराहा.
फिलहाल फिल्म की टीम ऑस्कर फंक्शन में हिस्सा लेने के लिए कैलिफॉर्निया पहुंची हुई है.
उनकी फिल्म को अवार्ड मिलने के बाद गांव भर में खुशी का माहौल है और मिठाइयां बांटी जा रही है.
पढेंपेड़-पौधे लगाने में दुनिया में सबसे आगे हैं भारत और चीन – NASA
ऑस्कर अवार्ड की लिस्ट
बेस्ट पिक्चर : ग्रीनबुक
बेस्ट डायरेक्टर : अलफॉन्सो क्यूरॉन (रोमा)​
बेस्ट एक्ट्रेस : रामी मालेक ​
बेस्ट एक्टर : ओलिविया कोलमन ​
बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस : रेजिना किंग (If Beale Street Could Talk)
बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर : माहेरशला अली
बेस्ट सपोर्टिंग फिल्म : रोमा, अल्फोंसो क्येरन
बेस्ट एनिमेटेड फीचर फिल्म : स्पाइडर मैन (Spider-Man: Into The Spider-Verse)
बेस्ट ओरिजनल स्क्रीनप्ले : ग्रीन बुक
बेस्ट एडैपटेड स्क्रीनप्ले : ब्लैकलांसमैन (BlacKkKlansman)
बेस्ट ओरिजनल स्कोर : ब्लैक पैंथर
बेस्ट डॉक्यूमेंट्री फीचर : फ्री सोलो
बेस्ट डॉक्यूमेंट्री शॉर्ट : पीरियड एंड ऑफ सेन्टेंस (Period. End Of Sentence)
बेस्ट लाइव एक्शन शॉर्ट : स्किन
बेस्ट एनिमेटेड शॉर्ट : बाओ
बेस्ट सिनेमेटोग्राफी : अल्फोंसो क्यूरेन को ‘रोमा’ के लिए
बेस्ट प्रोडक्शन डिजाइन : ब्लैक पैंथर
बेस्ट कॉस्टयूम डिजाइन : ब्लैक पैंथर
बेस्ट हेयर एंड मेकअप : वाइस
बेस्ट साउंड एडिटिंग : बोहेमियन रैपसोडी
बेस्ट साउंड मिक्सिंग : बोहेमियन रैपसोडी
बेस्ट विजुअल इफेक्ट : फर्स्ट मैन
बेस्ट एडिटिंग : बोहेमिया रैपसोडी
बेस्ट ओरिजनल सॉन्ग : शैलो