10 POINTS में जानें देश के सबसे लंबे रेल-सड़क पुल ‘बोगीबील’ की खासियत

India Longest Rail Road Bridge Bogibeel
PC - Social

India Longest Rail Road Bridge Bogibeel : देश ही नहीं एशिया का भी दूसरे नंबर का इतना बड़ा रेल रोड पुल बना बोगीबील

India Longest Rail Road Bridge Bogibeel : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश का सबसे बड़ा रेल-रोड ब्रिज बोगीबील को राष्ट्र को समर्पित कर दिया है.

असम के डिब्रगूढ़ में ब्रह्मपुत्र नदी पर बना ये पुल  डिब्रूगढ़ को दक्षिण तट के अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती धेमाजी जिले में सिलापाथर को जोड़ेगा.
इस पुल की कुल लंबाई 4.94 किमी है जो सिर्फ भारत का ही हीं बल्कि पूरे एशिया के लंबे रेल-सड़क पुल में दूसरे नंबर पर है.
बता दें कि इस पुल के चालू होने के बाद असम से अरुणाचल प्रदेश के बीच की यात्रा करीब 4 घंटे तक कम हो जाएगी.
पढ़ें – इंडोनेशिया में ही क्यों आती हैं सबसे अधिक प्राकर्तिक आपदा ? जानना चाहेंगे आप
10 प्लाइंट्स में जानें क्यों खास है ये बोगीबील पुल
1.मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस पुल को बनाने में कुल 5,900 करोड़ की लागत लगी है.
2. इस पुल के नीचे के डेक में डबल रेलवे लाइन बिछी हुई जिसपर अप और डाउन की ट्रेनों का आवागमन होगा.वहीं उपर की डेक में तीन सड़क है जिसपर गाड़ियां फर्राटा भर सकेंगी.
3. इस पुल का निर्माण हिंदुस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी (HCC) ने किया है
4. बोगीबील पुल की आधारशिला 22 जनवरी 1997 को त्कालीन प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने ऱखी थी. जबकि इस पर काम 21 अप्रैल, 2002 को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी जी के उद्घाटन करने के बाद शुरू हुआ.

5. ऐसा माना जा रहा है कि पुल से पूर्वोत्तर क्षेत्र की दूरी 165 किमी कम हो जाएगी, जिससे क्षेत्र में प्रति दिन 10 लाख रुपये का ईंधन की बचत हो सकेगी.
6. यह दिल्ली से डिब्रूगढ़ ट्रेन-यात्रा के समय को भी लगभग तीन घंटे घटा देगा. गौरतलब है कि अभी के रास्ते में 37 घंटे लगते हैं और पुल के चालू होने के बाद ये घटकर 34 घंटे हो गया है
7. इस पुल का सबसे बड़ा फायदा चीन की सीमा से सटे क्षेत्रों में सेना को जरूरी सामान पहुंचाने के लए होगा, और विकास भी इन जगहों पर अब तेजी से हो सकेगा.
पढ़ें – आलू की खेती में शराब मिलाकर बंपर मुनाफा कमा रहे हैं किसान
8.इस ब्रिज में जितना स्टील इस्तेमाल हुआ है उससे दो एफिल टॉवर बनाए जा सकते हैं, यही नहीं इसमें करीब 30 लाख सीमेंट की बोरियों की भी खपत हुई है. 
9. ये इतना मजबूत है कि किसी प्रकार के युद्ध में यहां आपात स्थिति में लड़ाकू विमान भी उतर सकेंगे और भारी से भारी टैंक भी यहां से जा सकते हैं.
10  सबसे कास बात कि अगर यहां 7 की तीव्रता का भूकंप भी आता है तो भी इस ब्रिज का कुछ नहीं बिगड़ेगा क्योंकी इसकी नींव काफी मजबूत है.