देश में 2,454 हाथी बंधक, पढ़ें क्या कहती है रिपोर्ट

ndian Elephants Condition Survey 2019
demo pic

Indian Elephants Condition Survey 2019 : 2,454 हाथियों को विभिन्न राज्यों में बंधक बनाकर रखा गया है.

Indian Elephants Condition Survey 2019 : हजारों साल पुरानी हमारी सभ्यता व संस्कार ही हमारे भारत को दुनिया में एक अलग पहचान दिलाते हैं.

क्या आपको कोई अन्य देश मिलेगा जहां पौधे,प्राकृतिक संसाधन से लेकर जानवरों तक की किसी ना किसी भगवान के रूप में पूजा की जाती है.
हाथी को हमारे देश में बड़ा ही पूजनीय माना जाता है,सभी हिंदू इनमें भगवान गणेश का रूप देखते हैं.
लेकिन हाल में हाथियों को बंधक बनाकर रखने को लेकर एक चौंकाने वाला आकड़ा सामने आया है.
दरअसल अभी कुछ दिनों पहले सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक हलफनामे में बताया गया है की देश के अंदर 2,454 हाथियों को विभिन्न राज्यों में बंधक बनाकर रखा गया है.

पढ़ें नार्थ नहीं बल्की अब दक्षिण के राज्यों में बाल लिंगानुपात में हो रही गिरावट – रिपोर्ट

इनमें 560 वन विभाग के कब्जे में है जबकि 1,687 निजी स्वामित्व के पास हैं.
यहां आपको बता दें की बंधक बने हाथियों में आधे से ज्यादा यानी 58 % तो सिर्फ केरल और असम के राज्यों में है.इन दोनों राज्यों में में क्रमशः 905 और 518 हाथियों को बंधक बनाकर रखा गया है.
कहां कितने हाथी है बंधक
हलफनामे के मुताबिक देश के कुल बंधक हाथियों में से 85 चिडियाघरों में ,सर्कस में 26,मंदिरों में 96 है. जबकी 664 तो बिना किसी मालिकाना हक के बिना ही तमाम जगह इंसानों की कैद में है.
क्यों पड़ी रिपोर्ट की जरूरत
बता दें की बीते कुछ सालों में भारत के विभिन्न राज्यों में हाथियों की मौत में लगातर हो रही बढ़ोत्तरी की खबरे आपके कानों तक जरूर पहुंची होगी.
यही नहीं इंसानों और हाथियों के बीच संघर्ष भी काफी समय से सूर्खियों में रहा है, जिसे देखते हुए पर्यावरण और वन मंत्रालय ने ये रिपोर्ट तैयार करी है.
मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अपने हलफनामे में बंधक बने हाथियों की मौजूदा संख्या से कोर्ट को अवगत कराने का काम किया है.

पढ़ें – दुनिया के सबसे भरोसेमंद देशों में शामिल हुआ भारत, पढ़ें रिपोर्ट

क्या कहा सुप्रीम कोर्ट ने
बता दें की हलफनामा दाखिल होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पर्यावरण और वन मंत्रालय को बंधक बनाए गए हाथियों की पहचान करने के निर्देश दिए हैं.
इसके अलावा निजी तौर पर जिसके पास हाथी है उनके पास इसे रखने का अनुमति प्रमाण पत्र है या नहीं ये भी जांचने के आदेश दिए है.
सिर्फ इतना ही नहीं जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस एस अब्दुल नजीर वाली इस खंडपीठ ने राज्यों के चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन को निर्देश दिए है कि वो बंधक बनाए गए सभी हाथियों की उम्र का भी पता लगाए,
बता दें की कोर्ट अब इस मामले की अगली सुनवाई आने वाली 12 फरवरी को करेगी.