महिलाओं के मुकाबले मर्द को होता है ज्यादा दर्द, रिसर्च में हुआ खुलासा

Depression Related To Stomach Problems
demo pic

Men Feel More Pain Than Women : महिलाएं अपने बड़े से बड़े दर्द के प्रति बेपरवाह रवैया अपनाती हैं.

Men Feel More Pain Then Women : हाल ही में कनाडा की टोरंटो मिसिसॉगा विश्वविद्यालय (यूटीएम) में एक शोध किया गया था जिसके नतीजों से ये बात जाहिर हुई है कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं सहन किए गए ज्यादा दर्द को जल्दी भूल जाती हैं.

बताया जा रहा है कि चूहे और मानव पर किए गए एक शोध में इस बात की पुष्टि हुई है.
वहीं इस शोध में एक बात ये भी सामने निकल कर आई है कि महिला और पुरुष अपने पहले के कष्टदायी अनुभवों को अलग-अलग तरीके से याद रखते हैं.
बता दें कि इस शोध के अनुसार जहाँ आदमी लोग अपने पहले के कष्टदायी अनुभवों को एकदम साफ़तौर पर याद रखते हैं, वहीं दूसरी तरफ महिलाएं अपने बड़े से बड़े दर्द के प्रति बेपरवाह रवैया अपनाती हैं.
इसी तरह के परिणाम नर व मादा चूहों में भी देखने को मिले जिनपर ये शोध किया गया था.
पढ़ें यौन शोषण से संयुक्त राष्ट्र भी नहीं अछूता, हर 3 में से 1 कर्मचारी पीड़ित
पुरुष दर्द का अनुभव दोबारा करने पर अतिसंवेदनशील रवैया दिखाते हैं, लेकिन वहीँ महिलाएं अपने दर्द के पूर्व अनुभव से तनाव नहीं लेती हैं.
Men Feel More Pain Then Women
demo pic
टोरंटो मिसिसॉगा विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर लोरेन मार्टिन ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि, “आमतौर पर लोगों के बीच ये धारणा थी कि महिलाएं दर्द के प्रति ज्यादा सवेंदनशील होती हैं और अपने दर्द को लेकर वो ज्यादा तनाव भी लेती हैं, लेकिन जब इस बारे में शोध किया गया तो नतीजे वाकई में चौंकाने वाले आये.” 
शोध में ये बात स्पष्ट रूप से सामने आई है कि अपने दर्द को लेकर ज्यादा सवेंदनशील औरतें नहीं बल्कि मर्द होते हैं और वो अपने दर्द को लेकर ज्यादा तनाव भी लेते हैं, और ये फैक्ट है की अगर पिछला दर्द याद किया जाए तो यह नए दर्द को और भी ज्यादा घातक बना देता है.
मार्टिन ने कहा की हम यह भी जानते हैं कि दर्द क्यों याद रहता है. ऐसे में अगर लोगों को ऐसी दवा दी जाए जो दर्द से जुड़ी उनकी पुरानी याद को कम कर दे, तो नई चोट के दर्द का एहसास कम किया जा सकता है.”
कैसे किया गया था शोध?
इस रिसर्च के बारे में बताया जा रहा है कि इसके अध्ययन को करेंट बायलॉजी जर्नल में प्रकाशित किया गया है, इसकी खास बात है की यह शोध चूहों और मनुष्यों दोनों पर किया गया था.
पढ़ें – कक्षा 8वीं के 56% बच्चें नहीं हल कर सकते बेसिक मैथ्स के सवाल – रिपोर्ट
इस रिसर्च के दौरान उन्हें विशेष कमरे में आग की लौ के जरिये हल्का सा जलने का दर्द दिया गया. इसके एक दिन के बाद दोबारा जब उतनी ही तेज लौ से पुरुषों को जलाया गया तो उन्हे ज्यादा जलन महसूस हुई वहीं महिलाओं की प्रतिक्रिया में पिछले अनुभव की कोई विशेष भूमिका नहीं देखी गई.
यही नहीं उन्हें दूसरी बार भी उस लौ से समान दर्द का ही अनुभव हुआ.