दुनिया के सबसे भरोसेमंद देशों में शामिल हुआ भारत, पढ़ें रिपोर्ट

World Most Trusted Countries

World Most Trusted Countries : दुनिया भर के 27 देशों में किए गए सर्वे में सामने आई ये बात

World Most Trusted Countries : भले ही हम भारतीयों को एक दूसरे पर विश्वाश हो ना हो, मगर पूरी दुनिया का विश्वाश जीतने में हम कामयाब जरूर हुए हैं.

ऐसा हम यूं नहीं कह रहे बल्कि हाल में जारी एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है.
दुनिया भर के 27 देशों में किए गए सर्वे के अनुसार भारत विश्व के सबसे विश्वनीय देशों में शामिल हो गया है.
बता दें की 16 अक्टूबर से लेकर 16 नवंबर, 2018 तक 27 बाजारों में किए गया ये ऑनलाइन सर्वे सरकार व गैर सरकारी संस्‍थान के कामकाज, मीडिया की विश्‍वसनीयता और बढ़ते कारोबार के भरोसे के ऊपर किया गया था. जिनमें 33,000 से अधिक लोगों के जवाब को शामिल किया गया है.
पढ़ें धनकुबेंरो की आय रोजाना 2,200 करोड़ बढ़ी, जानें भारत में अमीरी गरीबी के आकड़ें
डलमैन की ट्रस्ट बैरोमीटर-2019 रिपोर्ट के मुताबिक भारत ने जागरूक जनता और सामान्य आबादी के भरोसा सूचकांक में अपनी अलग पहचान बनाई है.
हालांकी कारोबारी ब्रांडो की विश्वसनीयता के मामले में अभी हमारे देश को इस दिशा में और काम करने की जरूरत है.
किस श्रेणी में क्या है स्थान
वैश्विक विश्वसनीयता सूचकांक की श्रेणी में भारत तीन अंक उपर चढ़ते हुए 52 अंक पर पहुंच गया है.
जागरूक जनता सूचकांक और सामान्य आबादी के भरोसा सूचकांक में हमारा देश क्रमश: दूसरेतीसरे नंबर पर है.
वहीं पड़ोसी देश चीन इस मामले में 79 और 88 अंको के साथ शीर्ष पर है.
ब्रांड विश्वसनीयता के मामले में ये हैं टॉप पर
प्रत्येक बाजार में मुख्यालय वाली कंपनियों में भरोसे के मामले में स्विट्जरलैंड, जर्मनी और कनाडा की कंपनियां शीर्ष पर हैं.
इन देशों के ब्रांड में प्रत्येक का भरोसा अंक 70 है.वहीं, इस मामले में चीन के 41, भारत एवं ब्राजील के 40-40 और मैक्सिको के 36 अंक हैं.

पढ़ें – 2019 में दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था रैंकिंग में ब्रिटेन को पछाड़ देगा भारत

खोजी पत्रकारिता सबसे भरोसेमंद
खबरों के विश्वसनीय स्रोतों के मामले में ‘खोज’ और ‘पारंपरिक मीडिया’ सबसे भरोसेमंद हैं.
इस मामले में इसे 66 अंक मिले हैं जबकी सोशल मीडिया 44 अंको के साथ भरोसे के मामले में बहुत नीचे है.
वहीं, 73 फीसदी लोग झूठी सूचना या फर्जी खबरों को हथियार के रूप में इस्तेमाल किए जाने को लेकर चिंतित हैं.
गौरतलब है की एडलमैन की ट्रस्ट बैरोमीटर-2019 रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब विश्‍व आर्थिक मंच का सालाना सम्‍मेलन शुरू होने जा रहा है.