Home सरकारी अड्डा Passport In Address Proof : अगर आप पासपोर्ट होल्डर हैं तो इस...

Passport In Address Proof : अगर आप पासपोर्ट होल्डर हैं तो इस खबर को जानना आपके लिए जरूरी है

SHARE

Passport In Address Proof : नारंगी रंग में दिखेगा ये पासपोर्ट

Passport In Address Proof : पासपोर्ट को अपने एड्रेस प्रुफ कै तौर पर इस्तेमाल करने वाले लोग अब जल्द ही ऐसा नहीं कर सकेंगे.

दरअसल विदेश मंत्रालय की नई घोषणा के अनुसार अब पासपोर्ट का आखिरी पन्ना जिस पर घर का पता संबंधित जानकारी लिखी होती थी उसे अब प्रिंट नहीं किया जाएगा. यह फैसला शुक्रवार को विदेश मंत्रालय की 3 मेंबर्स कमेटी की तरफ से लिया गया है.
बता दें कि भारतीय पासपोर्ट के आखिरी पन्‍ने पर नाम, पिता या कानूनी अभिभावक का नाम, माता का नाम, पत्‍नी का नाम और पता छपा होता है.
विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा कि कमेटी ने पासपोर्ट और पासपोर्ट अधिनियम, 1967 और पासपोर्ट नियम, 1980 के तहत जारी किए जा रहे दूसरे यात्री दस्तावेजों के आखिरी पन्ने को अब से प्रकाशित नहीं किए जाने का सुझाव दिया था, जिसे विदेश मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया है.
हालांकि प्रवक्ता ने यह भी बताया कि लोगों की सारी जानकारी अब भी विदेश मंत्रालय के सिस्‍टम में जमा रहेगी इसलिए इससे सरकारी स्‍तर पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा.
इसके अलावा पासपोर्ट के नए फार्मेट के आने के बाद भी पुराना वाला काम करता रहेगा.
यह भी पढ़ें – Martyrs Children School : शहीद सैनिकों के बच्चों की पढ़ाई के लिए सेना बनाएगी बोर्डिंग स्कूल
अलग रंगों में दिखेंगे पासपोर्ट
यात्रा करने वाले जिन आवेदकों के लिए इमीग्रेशन चेक रिकार्ड(ECR) जरूरी  होगा, उन्हें नारंगी रंग के जैकेट वाली पासपोर्ट बुकलेट्स जारी की जाएंगी.
जबकि जिन्हें इमीग्रेशन चेक रिकार्ड (Non ECR) की जरूरत नहीं होगी उनके लिए अभी की तरह ही नीले रंग की जैकेट वाली पासपोर्ट बुकलेट जारी की जाती रहेगी.
क्या होता है ECR और NON ECR
भारतीय पासपोर्ट अधिनियम के तहत इस कैटागरी को शिक्षा से जोड़ कर देखा जाता है. ECR कैटेगरी के पासपोर्ट उन लोगों के लिए जारी किए जाते जिन्होंने 10वीं या 12 वीं तक की शिक्षा ग्रहण ना की हो.
ऐसे लोग बिना इमीग्रेशन ऑफिस से क्लियरेंस सर्टिफिकेट लिए विदेश नहीं जा सकते.
वहीं NON ECR में वो लोग आते हैं जो 10 वीं से उपर तक की पढ़ाई अपनी पूरी कर चुके हों. इन लोगों के लिए किसी भी इमीग्रेशन ऑफिस में जाकर क्लियरेंस की जरूरत नहीं होती.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitterInstagram, and Google Plus