Home पॉलिटिकल 360° अरसे बाद पब्लिक प्लेटफॉर्म पर नजर आईं मैडम सोनिया, मीडिया के सामने...

अरसे बाद पब्लिक प्लेटफॉर्म पर नजर आईं मैडम सोनिया, मीडिया के सामने खोले कई निजी और राजनैतिक राज

SHARE
Sonia Gandhi At India Today Conclave
pic courtsey - india today

Sonia Gandhi At India Today Conclave : प्रियंका के राजनीति प्रवेश से लेकर मनमोहन को प्रधानमंत्री बनाने के फैसले पर बेबाक बोलीं सोनिया गांधी

Sonia Gandhi At India Today Conclave : राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद से सोनिया गांधी अपने राजनैतिक रिटायमेंट को भरपूर इंजॉय करने में लगी थी, यहां तक की गोवा में छुट्टियां मनाते हुए उनकी कई तस्वीरें भी सामने आई थी.

लेकिन हाल के चुनावी नतीजों में यूपीए की हालात को देखते हुए ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष एक बार फिर से सक्रिय राजनीति में वापस आ सकती हैं.
दरअसल शुक्रवार यानि की 9 मार्च को मुंबई में आयोजित इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में सोनिया गांधी शामिल हुईं थी. जहां इस सामारोह में इंडिया टुडे ग्रुप के चेयरमैन अरुण पुरी ने उनसे कई राजनीतिक और व्यक्तिगत कई सवाल पूछें.
वैसे तो हम सब जानते हैं कि सोनिया गांधी हिंदी कम बोलती हैं मगर यहां पर उन्होंने बड़े आराम से हिंदी में अरुण पुरी के सवालों का बेहद संजिदगी के साथ जवाब दिया. आइए जानते हैं सोनिया गांधी के इंडिया टूडे को दिए इंटव्यूह के कुछ महत्वपूर्ण अंशों के बारे में
राजनीति में नहीं आना चाहती थीं सोनिया
सोनिया गांधी से जब उनके राजनीति जीवन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे कभी राजनीति में नहीं आना चाहती थी. यही नहीं उनके पति राजीव गांधी भी राजनीति में कभी नहीं आना चाहते थे.
लेकिन उनकी सास यानि इंदिरा गांधी के मौत के बाद से मजबुरन राजीव गांधी को और उनकी मौत के बाद
उन्हें राजनीति में आना पड़ा.
अरुण पुरी ने अपने अगले प्रश्न में पूछा कि अब उनके पास कांग्रेस अध्यक्ष का पद नहीं है तो वह अपना वक्त
कैसे बिता रही हैं. इस सवाल के जवाब में सोनिया ने कहा अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद वो अब काफी हल्का महसूस कर रही हैं.
उन्होंने बताया कि वो अब खाली समय में घर पर किताबें पढ़ती हैं, कभी-कभी मूवी भी देखती हैं और कुछ कागजी काम भी करती रहती हैं.
यह भी पढ़ें – टीडीपी की नाराजगी की वजह बीजेपी या भारत सरकार, जानिए क्या है इस अलग होने की पूरी राजनीतिक कहानी
सोनिया ने कहा मुझे लीडर नहीं रीडर कहा जाता था
सोनिया गांधी एक फ्रेंच लेडी थी, जब वो शादी के बाद पहली बार भारत आईं थी तब उन्हें हिंदी तो दूर इंग्लिश भी ठीक से बोलने नहीं आती थी.
मगर उन्होंने भारत में आकर हिंदी और इंग्लिश क्लास ली और इसी का नतीजा है कि अब वो काफी अच्छी
हिंदी बोलती हैं और समझ भी लेती हैं.
लेकिन इसके बाद भी सोनिया ने कहा कि मुझे स्वाभाविक तौर पर भाषण देना नहीं आता इसलिए मुझे नेता (लीडर) के बजाए भाषण पढ़ने वाली (रीडर) कहते थे.
प्रियंका गांधी के राजनीति में आने पर सोनिया ने दिया ये बयान
बता दें कि जब सोनिया गांधी से प्रियंका के राजनीति में आने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि
प्रिंयका फिलहाल अपने बच्चों की देख- रेख में व्यस्त हैं.
उन्होंने कहा की राजनीति में आना या न आना ये प्रियंका का व्यक्तिगत मामला है और भविष्य में क्या होगा इसके बारे में कोई नहीं जानता.
गौरतलब है कि सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बल्कि अन्य दल के नेता भी प्रियंका गांधी को राहुल गांधी से अच्छा नेता मानते हैं और बड़े समय से उन्हें सक्रिय राजनीति में आने के लिए निवेदन कर रहें हैं.
वहीं मनमोहन सिंह को पीएम बनाने के सवाल पर सोनिया गांधी ने कहा कि मुझे पता था कि मनमोहन सिंह मुझसे बेहतर पीएम साबित होंगे.
उन्होंने बताया कि वो उस समय अपनी सीमाओं के बारे में जानतीं थी यही वजह रही कि कांग्रेस पार्टी ने मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया.
यह भी पढ़ें – देश के बेरोजगार युवाओं का खून चूसते कर्मचारी आयोग, जानिए क्या है पूरा SSC पेपर लीक मामला
विपक्ष पर साधा सटीक निशाना
सोनिया गांधी ने इंडिया टुडे के प्लेटफॉर्म से विपक्ष पर जमकर निशाना साधा. 2019 के होने वाले संसदीय चुनावों के बारे में सोनिया ने जवाब देते हुए कहा कि बीजेपी जुमले पर लोगों से वोट की अपील करती है.
जिस तरह स्कील इंडिया का जुमला बेकार हुआ था ठीक उसी प्रकार मोदी के विकास और अच्छे दिन का जुमला भी बेकार ही होगा और यह बात लोगों को समझ आने भी लगी है.
उन्होंने कहा कि राजस्थान और मध्यप्रदेश के उपचुनावों में कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया है और आगे भी अच्छे नतीजे देखने का मिलेंगे. कर्नाटक में भी दोबारा कांग्रेस की सरकार बनने की उम्मीद हमें हैं.