Home सरकारी अड्डा New Truck Cabin : सरकार के इस आदेश के बाद ट्रक ड्राइवरों...

New Truck Cabin : सरकार के इस आदेश के बाद ट्रक ड्राइवरों का सफर हुआ सुहाना

SHARE
new truck cabin
demo pic

New Truck Cabin : ट्रक ड्राइवरों को मिली बड़ी राहत

New Truck Cabin : अब भारत की सड़कों पर आपको बहुत जल्द गर्मी में पसीना बहाते या शर्ट उतार कर ट्रक चलाने वाले ड्राइवरों के चेहरे देखने को नहीं मिलेगें.

दरअसल सरकार ने सभी ट्रक बनाने वाली कंपनियों को यह निर्देश जारी किया है कि वो 1 जनवरी 2018 से अपने सभी ट्रकों में ड्राइवर के लिए एसी कैबिन का मैन्युफैक्चर करें.
इस बारे में मिनिस्‍ट्री ऑफ रोड एंड ट्रांसपोर्ट ने 20 नवंबर 2017 को नोटिफिकेशन जारी कर सभी ट्रक निर्माताओं को इस बारे में सूचित कर दिया है.
मंत्रालय के इस नोटिफिकेशन में साफ कहा गया है कि ट्रक का रजिस्‍ट्रेशन अब तब ही होगा, जब उसमें एसी केबिन बना होगा.
यह भी पढ़ें – GST New Rate : इन सामानों पर सरकार ने घटाई जीएसटी दर, पढ़ें पूरी लिस्ट
ट्रक ड्राइवरों को मिली बड़ी राहत
भारत सरकार के इस नए फैसले के बाद से लगता है अब ट्रक ड्राइवरों की भी दशा सुधरने वाली है.
गर्मी,सर्दी हर मौसम में सड़कों पर सामान को एक शहर से दूसरे शहर पहुंचाने वाले इन ट्रक चालकों का सफर अब से काफी आरामदायक सफर हो जाएगा.
आपको बता दें कि इस नए मियम को लागू करने के लिए मोटर व्‍हीकल एक्‍ट 1988 में अमेंडमेंट किया गया है. वहीं अगस्‍त 2017 में विभाग द्वारा इस बारे में एक ड्राफ्ट नोटिफिकेशन जारी कर संबंधित लोगों से सुझाव व आपत्तियां मांगी गई थी.
यह भी पढ़ें Deputaion Allowance : केंद्रीय कर्मचारियों के इस अलाउंस में हुई दोगुनी बढ़ोतरी
सरकार का क्या है इरादा
गौरतलब है कि जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है उसने गुड्स और ट्रांसपोर्टेशन के बीच समन्वय बैठाने की पूरी कोशिश की है. इसके पीछे सरकार की दलील है कि तय समय पर सामान की डिलिवरी करने के लिए बेहतर ट्रांसपोर्टेशन फैसिलिटी होनी चाहिए.
इस दौरान सरकार के सामने सबसे बड़ी समस्या उभर कर आई कि तपती गर्मी, बारिश और धूल में ट्रक ड्राइवरों को सड़को पर ट्रक चलाने में बड़ी परेशानी होती है, जिससे गुड्स की सप्‍लाई तय समय पर करने में देरी हो जोती है.
ट्रक चालकों की इसी परेशानी को खत्म करने के लिए सरकार ने ऐसे केबिन बनाने का निर्णय लिया है ताकि ड्राइवर अपने सामान को पहुंचाने में किसी तरह की कोताही ना बरतें.