Home विज्ञान Vegetable Green Box : बिना फ्रीज के इस बॉक्स में 48 घंटो...

Vegetable Green Box : बिना फ्रीज के इस बॉक्स में 48 घंटो तक स्टोर कर सकते हैं हरी सब्जियां

SHARE
Vegetable Green Box
demo pic

Vegetable Green Box : गुणवत्ता में नहीं आएगी कमी

Vegetable Green Box : घर में अक्सर हमारे फ्रिज में हरी सब्जियां को लंबे समय तक ताजा रखना किसी चुनौती की तरह होता है.

क्योंकि कुछ समय बाद ही फ्रिज में रखी सब्जियों की गुणवत्ता कम होने लगती है और उनका स्वाद भी बदलने लगता है. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे खास बॉक्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस समस्या का हल है.
भारतीय वैज्ञानिकों के इस नए खोज ग्रीन बॉक्स से हमारी हरी सब्जियां रखने और स्टोर करने का तरीका बदला जा सकता है.
यह बॉक्स हर प्रकार की सब्जियों के अंदर समान्य तापमान पर भी 48 घंटे तक ताजगी बनाए रखता है और उसकी गुणवत्ता में भी कोई कमी नहीं आती.
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ हॉर्टिकल्चर एंड रिसर्च(आईसीएआर) के वैज्ञानिकों ने इस हाई ह्यूमिडिटी बॉक्स को विकसित किया है जो सब्जियों की शेल्फ-लाइफ को बढ़ाने में मदद करता है, जिसमें मुख्य रूप से हरे पत्ते वाली सब्जियां भी शामिल है.
यह भी पढ़ें – Mushroom Benefits : बुढ़ापे में भी दिखना है यंग तो आज से ही खाना शुरू करें मशरूम
चेन्नई स्थित वेकोल फूड्स एंड प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा तैयार किए गए इस बॉक्स को एपेक्स हॉर्टीकल्चर अनुसंधान ने अपना लाइसेंस दे दिया है. आपको बता दें कि यह एक सप्लाई चेन कंपनी है, जो सब्जी की रिटेल चैन चलाते हैं. और यह कंपनी अब इस तरह के खास बॉक्सों का भी निर्माण करेगी.
इसके अलावा बड़े पैमाने पर परीक्षण के लिए एक विशाल फार्म-टू-फोर्क रिटेलर कंपनी भारत के दक्षिणी राज्यों में इन बक्सों को बेचने के लिए भेज भी रही है, जिसका लोगों की तरफ से अच्छा रिस्पांस मिल रहा है.
बिजनेस लाइन के मुताबिक कंपनी के निर्माता ने बताया कि एक 12-15 किलोग्राम के हाई ह्यूमिडिटी बॉक्स को बनाने में कम से कम 10000 रुपए का खर्च आता है.
उंचे तापमान क्षेत्रों के लिए जेल पैक का उपयोग एक विक्लप के तौर पर है जो बॉक्स के तापमान को 6-8 डिग्री तक नीचे ला सकता है.
यह भी पढ़ें – किसानों की फसल नहीं होगी खराब, कृषि वैज्ञानिकों ने इजात किए जैविक टीके
बॉक्सर्स के निर्माण करने वाली वैज्ञानिकों की टीम का नेतृत्व करने वाले एचआईएचआर के सीनियर साइंटिस्ट एस भुवनेश्वरी ने कहा कि हमारे लिए सही तरह की सामग्री को स्क्रीन और अंतिम रूप देने में लगभग 5 साल लग गए.
आईआईएचआर टीम ने इन बॉक्सों में एक खास तरह के पॉलीमर का प्रयोग किया है. इस पॉलीमर में किसी तरह की गंध नहीं रहती जिस वजह से सब्जियां बिना किसी अतिरिक्त गंध के स्टोर की जाती हैं और उन्हें खाने के समय उनका स्वाद बरकरार रहता है.
वेकॉल के विग्नेश कुमार मनोगरण जो अपने तीन आउटलेट पर उन बॉक्सों का इस्तेमाल करते हैं वह बताते हैं कि हरे पत्तेदार सब्जियों को संरक्षित करना बहुत ही मुश्किल होता है.
इन बॉक्सों की मदद से उनकी ताजगी और गुणवत्ता बनी रहती है और साथ ही हमारा घाटा भी नहीं होता है क्योंकि हम लंबे समय तक सब्जियों को संरक्षित कर पाते हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitterInstagram, and Google Plus