Home विशेष Hardik Pandya Special: बचपन में क्रिकेट को नापसंद करने वाले हार्दिक, जानिए...

Hardik Pandya Special: बचपन में क्रिकेट को नापसंद करने वाले हार्दिक, जानिए कैसे भारतीय टीम के हुकुम का इक्का बन गए

SHARE
Hardik Pandya Special
हार्दिक पांड्या

Hardik Pandya Special: हर जगह छाए क्रिकेट के कुंफु पांड्या

Hardik Pandya Special: आज सोशल मीडिया से लेकर अखबार तक, न्यूज चैनल से लेकर वेब पोर्टल तक हर जगह सहवाग के कुंफु पांड्या छाए हुए हैं.

जी हां हम बात कर रहे हैं भारतीय टीम के युवा ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की.
भारत ने रविवार को खेले गए मैच में ऑस्ट्रेलिया को जिस तरह हराया उसमें सबसे बड़ा हाथ हार्दिक पांड्या का ही था. लेकिन आज कामयाबी के शिखर पर खड़े पांड्या यह सफर इतना आसान नहीं था. उनके क्रिकेटर बनने की कहानी में भी बहुत सारे अच्छे बुरे ट्वीस्ट हैं.
कम समय में बनाई अपनी पहचान
कप्तान विराट से लेकर क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर तक आज हर कोई इस खिलाड़ी का मुरीद है. पिछले कुछ महीनों में इस खिलाड़ी ने अपना नाम इस कदर रोशन कर लिया है कि हर क्रिकेट फैन की जुबान पर उनका नाम है.
पिछले 2 सालों में इस खिलाड़ी ने वह सब हासिल किया जो एक युवा खिलाड़ी का सपना होता है.
हार्दिक पांड्या
हार्दिक पांड्या
टी20 क्रिकेट से अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत करने वाले हार्दिक ने क्रिकेट इतिहास के सबसे पुराने फॉर्मेट टेस्ट क्रिकेट में भी अपनी छाप छोड़ दी हैं.
जब सचिन ने हार्दिक से कहा, तुम जल्दी ही भारत से खेलोगे
श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट में 50 रन की तूफानी पारी खेलने के बाद तो टीम के कप्तान विराट कोहली ने उनकी तुलना इंग्लैंड के सुपरस्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स से कर दी. लेकिन आपको बता दे कि सचिन तेंदुलकर ने हार्दिक से आईपीएल के पहले ही सीजन में कह दिया था कि वह जल्द ही भारत से खेलेंगे.
बचपन में क्रिकेट को नापसंद करते थे हार्दिक
Hardik Pandya Special : हार्दिक पांड्या का जन्म 11 अक्टूबर 1993 को गुजरात के सूरत में रहने वाले हिमांशु पांड्या के घर हुआ. उनके पिता कार फायनेंस का छोटा सा बिजनेस किया करते थे.
हार्दिक ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनका क्रिकेट खेलने का कोई इरादा नहीं था. उनका बड़ा भाई क्रिकेट खेलने का शौकीन था और वह उनके साथ ग्राउंड में मौज मस्ती करने के लिए जाया करते थे.
मगर एक दिन जब कोच किरण मोरे ने हार्दिक को मौज-मस्ती करते हुए देखा तो कहा कि तुम मस्ती कर रहे हो. तुम्हें भी अपने भाई की तरह क्रिकेट खेलना चाहिए.
इसी दौरान मोरे ने हार्दिक के पिता से कहा कि अगर आप अपने बेटों को क्रिकेटर बनाना चाहते हो तो बड़ौदा शिफ्ट हो जाओ. सूरत में क्रिकेट का कल्चर नहीं है. इसके बाद हार्दिक पांड्या ने क्रिकेट खेलना शुरू किया और आज वह भारत की इंटरनेशनल क्रिकेट टीम का एक अहम हिस्सा बन चुके हैं.
कोच किरण मोरे की बड़ौदा शिफ्ट होने की सलाह देने के बाद हार्दिक पांड्या के पिता साल 1999 में सूरत से बड़ौदा शिफ्ट हो गए.
सूरत में हार्दिक पांड्या के पिता छोटे-मोटे काम करते थे. हार्दिक के पिता इतना कम कमाते थे कि वो अपने परिवार का ठिक से खर्चा भी नहीं चला पाते थे.
हार्दिक पांड्या
हार्दिक पांड्या अपने परिवार के साथ
इसी बीच उनके पिता को हार्ट अटैक का दौरा पड़ा और डॉक्टरों ने उनको आराम करने की सलाह दी, जिसकी वजह से उनको यह भी काम छोड़ना पड़ा. यह समय उनके और उनके परिवार के लिए कठिन था.
 हार्दिक पांड्या बताते हैं कि वो और उनका भाई केवल मैगी खाकर मैदान पर पूरा दिन बिताते थे.
परिवार में आर्थिक अभाव व अनेक कठिनाइयों के बावजूद उन्होंने बड़ौदा के जूनियर रैंक क्रिकेट में अपनी पहचान बनानी शुरू की.
हार्दिक पांड्या का पढ़ाई में मन नहीं लगता था. इसी वजह से वो 9 वीं में पहली बार फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ दी.
शुरूआत लेग स्पिन गेंदबाजी से की
Hardik Pandya Special : हार्दिक पांड्या पहले पार्ट टाइम लेग स्पिन गेंदबाजी करते थे. वह एक अच्छे लेग स्पिनर नहीं थे इसलिए उनको गेंदबाजी में इस्तेमाल नहीं किया जाता था. इसको लेकर हार्दिक पांड्या निराश थे.
जिसके बाद उन्होंने अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान देना शुरू किया. लेकिन वो सिर्फ नेट पर अभ्यास के दौरान तेज गेंदबाजों की सहायता भर करते थे.
तभी एक दिन रणजी ट्रॉफी कोच सनथ कुमार ने हार्दिक को गेंदबाजी करते हुए देखा और उसके कुछ महीने बाद ही उन्हें गेंदबाजी कराना शुरू करा दिया.
आईपीएल से चमका सितारा
Hardik Pandya Special : भले ही हार्दिक का पहला रणजी सीजन अच्छा ना गुजरा हो लेकिन उन्होंने आईपीएल में मुख्य भूमिका निभाई थी.
हार्दिक पांड्या ने आईपीएल सीजन 2015 के कुछ मैचों में अच्छी गेंदबाजी की. हार्दिक का मानना है कि किसी भी युवा खिलाड़़ी के लिए लाइमलाइट में आने के लिए आईपीएल से बेहतर कोई प्लेटफॉर्म नहीं है.
आईपीएल एक ऐसा बड़ा मंच है जहां आप खुद को साबित कर सकते हो. आईपीएल में मुंबई इंडियंस की तरफ से खेलते हुए हार्दिक पांड्या ने जॉन राइट और रिकी पोंटिंग को काफी प्रभावित किया.
आईपीएल सीजन 2015 में अच्छा प्रदर्शन करने की बदौलत हार्दिक पांड्या को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाने वाली टी-20 टीम इंडिया में मौका मिला.
जब हार्दिक ने बनाए 1 ओवर में 34 रन
वैसे हार्दिक के नाम घरेलू क्रिकेट में एक बड़ा रिकॉर्ड भी है. बड़ौदा के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने 2016 में सैयद मुश्ताक ट्रॉफी में दिल्ली के आकाश सूदन के खिलाफ एक ओवर में 34 रन बना डाले थे. इस ओवर में 5 एक्स्ट्रा बने और आकाश सूदन के नाम एक ओवर में 39 रन पिटवाने का रिकॉर्ड दर्ज हो गया.
हार्दिक पांड्या
हार्दिक पांड्या टीम के साथ जश्न मनाते हुए
2016 हार्दिक का स्वर्णिम साल
Hardik Pandya Special : इसके बाद हार्दिक ने आईपीएल में कई तूफानी पारियां खेली. कई मैचों में तो उन्होंने अपनी टीम को हारा हुआ मैच जीता दिया.
हार्दिक का स्वर्णिम दौर शुरू हुआ जब उन्हें 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया.
हालांकि पहला मैच उनके लिए ज्यादा अच्छा नहीं रहा और उन्होंने 4 ओवर में 37 रन लुटा दिए. लेकिन अगले ही मैच में उन्होंने अच्छी गेंदबाजी करते हुए दुनिया को दिखा दिया की उन पर जो विश्वास दिखाया है वह उसके काबिल है.
उन्हें इस सीरीज में बल्ले से तो मौका नहीं मिला लेकिन गेंदबाजी और फील्डिंग से वह सबको प्रभावित करते गए.
इसके बाद बांग्लादेश में हुए एशिया कप में तो वह स्टार बनकर उभरे. उनकी तूफानी बल्लेबाजी देखकर हर कोई हैरान था. यहां तक कि उस टूर्नामेंट में तो कई बार उन्हें धोनी से ऊपर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया.