Home विशेष जानिए किस तरह पता चला कि इराक में लापता हुए 39 भारतीयों...

जानिए किस तरह पता चला कि इराक में लापता हुए 39 भारतीयों की हो चुकी है मौत

SHARE
Missing Indian Iraq Dead
PC - Tribune India

Missing Indian Iraq Dead : जून 2015 में मोसूल से लापता हुए थे 39 भारतीय

Missing Indian Iraq Dead :  मंगलवार को हुए राज्यसभा सत्र में भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इराक के मोसूल में लापता हुए भारतीयों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है.

सुषमा स्वराज ने आज सदन को सुचित करते हुए बताया कि  मोसुल से जून 2015 में लापता हुए 39 भारतीयों की मौत हो चुकी है.
उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि सभी मृत भारतीयों की डीएनए जांच के माध्यम से पुष्टि की जा चुकी है, और अब जनरल वी के सिंह जल्द से जल्द इराक जाकर सभी 39 भारतीयों के पार्थिव शरीर के अवशेष लेकर आएंगे.
यह भी पढ़ें – Pak Returned Geeta: मां की भूमिका में विदेश मंत्री, अब देश में उठने लगी ‘’सुषमा स्वराजवाद’’ की आवाज
मोसुल में लापता 39 भारतीय को ISIS ने मारा
राज्यसभा में सुषमा स्वराज ने आज एक बड़ी ही दुखद सुचना देते हुए अपने बयान में बताया कि जून 2015 में इराक के मोसुल शहर में आतंकी संगठन आईएसआईएस ने कम से कम 40 भारतीयों का अपहरण किया था.
इनमें से एक व्यक्ति खुद को बांग्लादेश से आया मुस्लिम बता कर बच निकला लेकिन शेष 39 भारतीयों को ISIS ने बदूश शहर ले जा कर मार डाला.
उन्होंने बताया कि अपहृत भारतीयों को बदूश ले जाए जाने के बारे में जानकारी उस कंपनी से मिली जहां ये भारतीय काम करते थे.
जनरल वी के सिंह केस की खुद कर रहे थे जांच
बता दें कि इराक के 39 भारतीयों के अपह्रन की जांज की कमान खुद जनरल वी के सिंह के पास थी. इसके लिए उन्हें कई बार इराक भी जाना पड़ा.
गौरतलब है कि वी के सिंह इराक में भारतीय राजदूत और इराक सरकार के एक अधिकारी के साथ जब बदूश पहुंचे तब स्थानीय लोगों से पता चला कि मारे गए लोगों के शवों को आईएसआईएस ने दफना दिए हैं.
इसके बाद लोगों द्वारा बताए गए स्थान पर डीप पेनिट्रेशन रडारों की मदद से पता लगाया गया कि जिस गड्ढे में शवों को दफनाए जाने की बात कही जा रही है, उसमें सचमुच क्या है और फिर रडारों से जांच करने पर पता चला कि उन गड्ढों में शव है.
यह भी पढ़ें – जानिए कौन हैं लिंगायत और वीरशैव, आखिर किस कारण सीएम सिद्दरमैया ने दिया इन्हें अलग धर्म का दर्जा
मृत भारतीयों के डीएनए हुए मैच
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सदन को बताया कि इराक में मारे गये 39 में से 38 लोगों का डीएनए मैच हो गया है जबकि 39वें का डीएनए 70 फीसदी तक मैच हुआ है.
उन्होंने कहा कि मारे गये 39 भारतीयों में से से 31 पंजाब के और चार हिमाचल प्रदेश के हैं. वहीं, मृतकों में बिहार और पश्चिम बंगाल के लोग भी शामिल हैं.
विदेश मंत्री ने संसद के भीतर ही मृतकों को श्रद्धांजलि दी और उनके परिवार के लोगों के प्रति अपनी संवेदना जताई.
क्या सरकार को पहले से पता था इन मौतों की खबर
सुषमा स्वराज के सीरिया में लापता 39 भारतीयों की मौत के आधिकारिक पुष्टी के बाद मृतक परिवारों के घरों में मातम पसर गया.
परिवारों का कहना है सरकार की तरफ से पिछले साल अक्टूबर में उनके डीएनए सैंपल लिया गया था मगर किसी ने कभी हमारे लोगों की मौत के बारे में कोई जानकारी नहीं दी.
इन लोगों का कहना है कि हम जब भी किसी से अपने सदस्यों के बारे में पूछते तो हमें यही जवाब दिया जाता कि वो अभी जिंदा है.
हालांकि सुषमा स्वराज ने पहले ही देश को बताया ता जबतक उनके पास इन भारतीयों की मौत का कोई ठोस सबूत नहीं मिल जाता तब तक इन्हें जिंदा माना जाएगा.