Home विशेष Mughalsarai To Deen Dayal: रेलवे स्टेशन का नाम बदलने से क्या बदल...

Mughalsarai To Deen Dayal: रेलवे स्टेशन का नाम बदलने से क्या बदल जाएगी यात्रियों की जुबान

SHARE
mughalsarai to deen dayal

Mughalsarai To Deen Dayal: भारत सरकार ने किया प्रस्ताव मंजूर

Mughalsarai To Deen Dayal: शनिवार के बाद से रेलवे का मशहूर मुगलसराय स्टेशन बीते जमाने की बात हो गया है. अब इसे पंडित दीनदयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाएगा.

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने यूपी सरकार के उस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है, जिसमें इस स्टेशन का नाम बदलने का जिक्र था.
इस स्टेशन का नाम मुगलसराय से बदलकर पंडित दीन दयाल उपाध्याय करने का भारत सरकार को प्रस्ताव यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार बनने के बाद भेजा था.
देश के सबसे व्यस्त स्टेशनों में हैं मुगलसराय 
Mughalsarai To Deen Dayal: मुगलसराय जंक्शन की गिनती भारत के सर्वाधिक व्यस्त रेलवे स्टेशनों में होती है. यह जंक्शन देश को पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत से जोड़ता है.
यह भी पढ़ें- Pakistan Mithi City: पड़ोसी मुल्क के इस शहर में हिंदू रखते हैं रोजा, और मुस्लिम नहीं काटते गाय
मुगलसराय ही वो स्टेशन है जहां एशिया का सबसे बड़ा रेलवे यार्ड बना हुआ है. और इसी जंक्शन से ग्रैंड कार्ड रेल लाइन भी शुरू होती है, जो गया-धनबाद होते हुए हावड़ा के लिए जाती है.
मुगलसराय स्टेशन का निर्माण सन् 1862 में उस समय हुआ था, जब ईस्ट इंडिया कंपनी हावड़ा और दिल्ली को रेल मार्ग से जोड़ रही थी.
विपक्ष कर रहा विरोध
गौरलतब है कि विपक्षी पार्टियां इस स्टेशन का नाम बदले जाने का विरोध पहले दिन से ही कर रही हैं.
इस मामले पर संसद में विपक्ष को जवाब देते हुए भारत सरकार में संसदीय मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा था कि दीन दयाल उपाध्याय के नाम के बजाय मुगल के नाम में एक रेलवे स्टेशन को पंसद करना सही सोच नहीं है.
उन्होंने उस समय कहा था कि क्या सभी चीजों के नाम सिर्फ नेहरू-गांधी के नाम पर ही रहेंगे? जबकि बहुत सारे लोगों ने देश के लिए अपना बलिदान दिया है.
आपको बता दें कि भाजपा इस स्टेशन को पंडित दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर इसलिए करना चाहती है क्योंकि 1968 में उनकी रहस्यमय हालात में मृत्यु इसी मुगलसराय स्टेशन पर ही हुई थी.
यह भी पढ़ें- Railway Employee News :ऑन ड्यूटी रेल कर्मचारी अब से नहीं चला सकेंगे What’s App और Youtube
दीनदयाल या शास्त्री? इसको लेकर था विवाद
Mughalsarai To Deen Dayal: स्टेशन का नाम बदले जाने को लेकर बीजेपी और कांग्रेस में विवाद लाल बहादुर शास्त्री को लेकर था.
क्योंकि कांग्रेस का कहना था कि स्टेशन का नाम पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाम पर रखा जाए क्योंकि यह उनकी जन्मस्थली है.
आपको बता दें कि लाल बहादुर शास्त्री भारत के तीसरे प्रधानमंत्री रह चुके हैं.
क्या नाम बदलने से बदल जाएगी लोगों की जुबान
Mughalsarai To Deen Dayal: आपको याद होगा कांग्रेस सरकार ने  दिल्ली में कनॉट प्लेस का नाम बदलकर राजीव चौक और कनॉट सर्कस का नाम इंदिरा गांधी चौक किया है. लेकिन आज भी 99 फीसदी लोगों की जुबान पर कनॉट प्लेस का ही नाम आता है.
यह भी पढ़ें- Chennai World Record: 1,049 बच्चों ने एक साथ बायोलॉजी पढ़कर बनाया विश्व रिकार्ड
अभी हाल ही में जब हरियाणा सरकार ने गुडगांव का नाम बदलकर गुरुग्राम किया तो उस समय देश की दोनों बड़ी पार्टियों में खूब जुबानी जंग देखने को मिली थी. लेकिन सच तो यह है कि आज भी लोग उसे गुड़गांव के नाम से ही पुकारते हैं.
खैर स्थलों का नाम बदलने का सिलसिला काफी पुराना है. हर सरकार सत्ता में आने के बाद अपनी विचारधारा को जनता पर थोपने के लिए सबसे पहला काम यही करती है.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus