Home विशेष PNB Scam : जानिए कौन है नीरव मोदी और कैसे लगाया उसने...

PNB Scam : जानिए कौन है नीरव मोदी और कैसे लगाया उसने सरकारी बैंक को 11,300 करोड़ का चूना

SHARE
PNB Scam
demo pic

PNB Scam : बैंक के अधिकारियों ने घूस लेकर पहुंचाया मोदी का फायेदा

PNB Scam : देश में अरबों रुपयों के घोटालों की लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया है. नीरव मोदी डायमंड मर्चेंट के नाम पर हुए इस घोटाले में देश को 11,300 करोड़ रुपए का चूना लगा है. आइए आपको बताते हैं क्या है यह स्कैम

पंजाब नेशनल बैंक एसबीआई के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक है जिसका कुल बाजार पूंजीकरण 30,477.50 करोड़ रुपए का है.
यहां आपको बता दें कि बाजार पूंजीकरण का मतलब यह होता है कि अगर आपके पास 30477.50 करोड़ रुपए हैं तो आप बैंक के सभी शेयर खरीद सकते हैं. यह घोटाला कितना बड़ा है इसका अंदाजा आप ऐसे लगाइए कि यह बैंक के कुल बाजार पूंजीकरण के एक तिहाई के बराबर है.
कौन हैं नीरव मोदी
नीरव मोदी एक बड़े डायमंड कारोबारी है जो 2 डायमंड कंपनी फ़ायरस्टार डायमंड कंपनी और नीरव मोदी डायमंड के मालिक है. इसके अलावा उनके देश-विदेश में भी कई बड़े स्टोर है जिनाक सालाना कारोबार अरबों का है.
वैसे तो नीरव मोदी का परिवार शुरू से ही डायमंड से जुड़ा हुआ है. लेकिन इस बिजनेस में नीरव की एंट्री बहुत देर से हुई. नीरव अभी 48 साल के हैं और उन्होंने 2010 में अपना डायमंड का बिजनेस ‘नीरव मोदी’ ब्रांड शुरू किया था.
बड़े ही कम समय में नीरव मोदी इंडिया के पॉपुलर ज्वैलर बन गए.यहां तक की हॉलीवुड की केट विंस्लेट और डकोता जॉनसन से लेकर ताराजी पी हेनसेन ने नीरव मोदी ब्रांड के लिए रैंप वॉक किया था.
यही नहीं पिछले साल नीरव मोदी ने प्रियंका चोपड़ा को भी अपना ब्रांड अंबेसडर बनाया था. इस समय नीरव दुनिया के 1234वें व भारत के 85वें सबसे अमीर व्यक्ति हैं.
यह भी पढ़ें – देश में बढ़ रहा प्रतिभा पलायन, क्या मोदी सरकार की नीतियों से होगा सुधार?
क्या आरोप लगा है नीरव पर ?
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के अधिकारियों ने बताया कि पंजाब नैशनल बैंक को नीरव मोदी, उनके भाई, पत्नी और कारोबारी साझेदार ने कथित तौर पर 280 करोड़ रुपये से ज़्यादा की चपत लगाई है.
CBI ने पंजाब नैशनल बैंक की शिकायत पर कदम उठाया. बैंक का दावा है कि नीरव, उनके भाई निशाल, पत्नी अमी और मेहुल चीनूभाई चोकसी ने बैंक के अधिकारियों के साथ साज़िश रची और उसे नुकसान पहुंचाया.
बता दें कि ये सभी डायमंड आर यूएस, सोलर एक्सपोर्ट और स्टेलर डायमंड्स में पार्टनर हैं.
इन चारों के ख़िलाफ़ भारतीय दंड संहिता की उन धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है जो आपराधिक साज़िश रचने और धोखाधड़ी से जुड़े हैं. इसके अलावा प्रीवेंशन ऑफ़ करप्शन ऐक्ट के प्रावधानों के तहत भी आरोप तय किए गए हैं.
कैसे हुआ घोटाला
नीरव मोदी की कंपनी ने डायमंड इंपोर्ट करने को लेटर ऑफ़ क्रेडिट के लिए PNB से पहले संपर्क किया. इसके बाद PNB नीरव मोदी के लिए सप्लायर्स को भुगतान करने लगा जिसके पैसे बाद में नीरव मोदी से वसूले जाते थे.
PNB के अधिकारियों ने जाली लेटर ऑफ़ अंडरटेकिंग जारी किए और भारतीय बैंक की विदेशी शाखाओं से डॉलर में लोन लिया. इस लोन का इस्तेमाल बैंक के नोस्ट्रो अकाउंट की फ़ंडिंग के लिए जाता था. फिर एकाउंट्स से फ़ंड को विदेश में कुछ फ़र्मों को भेजा जाने लगा गया.
यह भी पढ़ेंEconomic Survey 2018 : जानिए बजट से पहले आंख खोल देने वाली आर्थिक समीक्षा की रिपोर्ट
इन तीन लोगों को किया गया है गिरफ्तार
गौरतलब है कि शनिवार को सीबीआई ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिनमें पीएनबी के तत्कालीन डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी, सिंगल विंडो ऑपरेटर मनोज खरात व नीरव मोदी की कंपनी का अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता कर्मचारी हेमंत भट्ट शामिल है.
उधर, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुख्य आरोपी नीरव मोदी न्यूयॉर्क की आलीशान होटल में अमेरिकी पत्नी एमी संग छिपा बैठा है.
सीबीआई ने दर्ज किया मामला
केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई के मुताबिक बैंक से उसे दो शिकायतें मिलीं हैं जिनमें आरोप लगाया गया कि बैंक ने 11400 करोड़ रुपये से अधिक के फर्जी लेन-देन का पता चला है जिसमें मोदी और उनसे जुड़ी आभूषण कंपनियां शामिल हैं.
वहीं पीएनबी की शाखा में 280 करोड़ रुपये के कथित ठगी और धोखाधड़ी मामले में वह पहले से ही सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus