Home विशेष Prithvi Shaw : मुंबई के इस युवा क्रिकेटर के नाम है कई...

Prithvi Shaw : मुंबई के इस युवा क्रिकेटर के नाम है कई रिकार्ड, फिर भी नहीं खिलाया एशिया कप

SHARE
prithvi shaw

Prithvi Shaw : इस मामले में है सिर्फ सचिन से पीछे

Prithvi Shaw : भारतीय फर्स्ट क्लास क्रिकेट में आज कल एक नाम हर ओर छाया दिख रहा है. आए दिन दिग्गजों के रिकार्ड तोड़ने वाले इस किशोर का कद क्रिकेट की दुनिया में बड़ी ही तेजी से बढ़ता जा रहा है.

जी हां हम बात कर रहें हैं मुंबई के क्रिकेटर पृथ्वी शॉ की जिन्होंने अपनी उम्र के 18 वें साल में ही महज 7 फर्स्ट क्लास मैचों में 5 शतक ठोक दिए हैं.
उनके खेलने के आलम का अंदाजा हम इसी बात से लगा सकते हैं कि वो इतनी कम उम्र में शतक बनाने की संख्या में सिर्फ सचिन तेंदुलकर से ही पीछे हैं .
पिता के त्याग को देते हैं श्रेय
पृथ्वी जब तीन साल के थे तब ही उनकी मां का निधन हो गया था. इसके बाद जब वो 7 साल के हुए तो क्रिकेट खेलने का जुनून उन पर इस कदर हावी हो गया कि तब से लेकर आज तक उन्होंने क्रिकेट के अलावा कुछ और सोचा ही नहीं.
उनके क्रिकेट के प्रति इस प्रेम को देखकर पृथ्वी के पिता ने उन्हें बेहतर क्रिकेटर बनाने के लिए कई त्याग किए.
पृथ्वी सबसे पहले सुर्खियों में तब आए जब उन्होंने नवंबर 2013 में 14 साल की उम्र में स्कूली मैच में 330 गेंदों पर 546 रन जड़े थे.
यह भी पढ़ें – Virat Birthday Special : यूं ही नहीं हर कोई विराट कोहली की तुलना सचिन से कर देता है
आपको बता दें कि पृथ्वी को इसी साल जनवरी में तमिलनाडु के खिलाफ राजकोट में रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण करने का मौका मिला.

Prithvi Shaw

शॉ के रिकॉर्ड
पृथ्वी शॉ ने अब तक जो 5 शतक प्र‌थम श्रेणी में लगाए हैं उनमें से 4 शतक तो उन्होंने सिर्फ रणजी मैचों में ही बनाए हैं.
आंध्र प्रदेश के खिलाफ उन्होंने करियर की 13 वीं पारी खेलकर रणजी क्रिकेट में इस उम्र में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं.
वहीं प्रथम श्रेणी मैचों में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में शॉ दूसरे नंबर पर पहुंच गए हैं. उनसे आगे सिर्फ क्रिकेट के भगवान कह जाने वाले सचिन तेंदुलकर का ही नाम है. सचिन ने 18 साल की उम्र में प्र‌थम श्रेणी क्रिकेट में 7 शतक जमाया था.
पृथ्वी शॉ ने अपने सभी सात मैचों में 50 से ज्‍यादा का स्कोर किया है. अपनी खेली गई सभी 13 पारियों में छह बार वह बड़ी पारी खेल चुके हैं.

Prithvi Shaw

अंडर 19 एशिया कप की जगह रणजी खिलाया गया
पृथ्वी पूरी तरह से अंडर 19 एशिया कप टूर्नामेंट पर खेलने के लिए ध्यान लगाकर अपनी तैयारियों में जुटे हुए थे.
यह भी पढ़ेंAshish Nehra Retirement : जानें, कम बैक किंग नेहरा का चोटिला भरा क्रिकेट सफर
दरअसल,पृथ्वी इस टूर्नामेंट के जरिए मुंबई रणजी ट्रॉफी सेलेक्टरों को खुद पर और ज्यादा भरोसा दिलाना चाहता थे. लेकिन उन्हें नहीं मालूम था कि मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन और भारतीय जूनियर चयनकर्ताओं के बीच पहले से ही आपसी सहमति बन चुकी है.
इसी के तहत उन्हें जूनियर चयनकर्ताओं ने अंडर-19 एशिया कप के लिए पृथ्वी के नाम पर विचार न करने का फैसला लिया. हालांकि बीसीसीआई चाहती थी कि पृश्वी ये टूर्नामेंट खेलें.
उनके ना खिलाए जाने के पीछे की एक बड़ी वजह यह भी रही है कि पृथ्वी सितंबर में दिलीप ट्रॉफी के फाइनल में शतक जड़कर पहले से ही सुर्खियां बटोर चुके थे.
लखनऊ में खेले गए इस मुकाबले में अपनी 152 रनों की पारी से पृथ्वी दिलीप ट्रॉफी के फाइनल में शतक बनाने वाले सबसे कम उम्र के क्रिकेटर बन गए थे.
खैर पृथ्वी शॉ के एशिया कप ना खिलाए जाने के पीछे जो भी वजह रही हो, लेकिन जिस तरह से वो अपना खेल दिखा रहें हैं उससे उम्मीद की जा सकती है कि वो आने वाले समय में भारतीय क्रिकेट का एक महत्तवपूर्ण स्तंभ जरूर बनेंगे.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus