Home विशेष U-17 Fifa World Cup: मां ने मछली बेचकर बेटे को बनाया फुटबॉलर,...

U-17 Fifa World Cup: मां ने मछली बेचकर बेटे को बनाया फुटबॉलर, आज भारतीय टीम का कर रहा नेतृत्व

SHARE
u-17 fifa world cup

U-17 Fifa World Cup: लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा है अमरजीत का संघर्ष

U-17 Fifa World Cup: जो बच्चा बचपन में फुटबॉल को हाथ में पकड़ने का सपना देखा करता था, आज वही फुटबॉल वर्ल्ड कप में भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहा है.

मणिपुर के थाउबाल जिले की हाओखा ममांग गांव में बेहद गरीब घर में जन्में फुटबॉलर अमरजीत सिंह का यहां तक का सफर काफी चुनौति पूर्ण रहा है.
इस खिलाड़ी का संघर्ष भरा जीवन उन लाखों युवाओं के लिए एक प्रेरणा है, जो संसाधनों के अभाव में किस्मत के सामने हार मान लेते हैं.
बेटे के सपने के लिए मछली बेचती थी मां

अमरजीत के पिता एक छोटे वर्ग के किसान थे. उनकी खेती से होने वाली आमदनी से बस घर में दो वक्त की रोटी का ही जुगाड़ हो पाता था. जिस वजह से उनके पास इतना सामार्थ नहीं था कि वो अमरजीत को फुटबॉल सिखने के लिए कोचिंग करा सके.

मगर उनकी मां ने अपने बेटे के इस जुनून को पूरा करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी.
अमरजीत की मां रोजाना घर से 25 किलोमीटर दूर मछली बेचने के लिए जाती थी. और इससे जो भी पैसा आता वह अमरजीत की कोचिंग में इस्तेमाल करती थी.
आज उनकी मां की ही मेहनत का नतीजा है कि उनका बेटा अंडर-17 फुटबॉल वर्ल्ड कप में भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहा है.

http://

पूरा हुआ बचपन का सपना
अमरजीत बचपन से ही एक फुटबॉल खिलाड़ी बनने का सपना देखा करते थे. जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने दिन-रात एक कर रखा था.
 उन्हें पता था कि संसाधनों के अभाव में उनकी राह कठिन होने वाली है, लेकिन उन्होंने कड़ी मेहनत और मजबूत हौसलों को अपनी ताकत बनाया.यही नहीं किस्मत ने भी उनकी हर कदम पर परीक्षा ली. मगर अमरजीत ने तो मानों अपनी मंजिल को पाने की ठान रखी थी.
नतीजा, आज अमरजीत का चयन भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान के पद पर हुआ है. यह टूर्नामेंट भारत में 6 से 28 अक्टूबर तक खेला जाएगा.
For More Breaking News In Hindi and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus