Home विशेष UN Migrant Report : भारत में बांग्लादेशी और पाकिस्तानी प्रवासियों की संख्या...

UN Migrant Report : भारत में बांग्लादेशी और पाकिस्तानी प्रवासियों की संख्या घटी, यूएन की रिपोर्ट

SHARE
UN Migrant Report
demi pic(rediff)

UN Migrant Report : बांगलादेश में भारतीय बढ़े

UN Migrant Report : संयुक्त राष्ट्र ने हाल ही में प्रवासियों से जुड़ी एक रिपोर्ट जारी की है. इस रिपोर्ट में भारत और उसके पड़ोसी देश पाकिस्तानर बांग्लादेश के अंदर रह रहे प्रवासियों के आकड़े पेश किए गए हैं.

रिपोर्ट में यह सामने आया है कि भारत में रहने वाले बांग्लादेशियों की संख्या वर्ष 2000 से अब तक 8 लाख घट गई है.
सोमवार को यूएन द्वारा 2017 की अंतर्राष्ट्रीय प्रवासन के आकड़े जारी किए गए जिसके अनुसार सन् 2000 में भारत के अंदर बांग्लादेश से आए प्रवासियों की संख्या 39 लाख थी,जो अब घटकर 31 लाख हो गई है.
आपको बता दें कि भारत में रहने वाले सभी देशों के प्रवासियों की मौजूदा कुल संख्या 52 लाख है, जिसमें वर्ष 2000 के बाद से 12 लाख की गिरावट आई है.
यह भी पढ़ें – बांग्लादेश में बेसहारा रोहिंग्या शरणार्थियों की मदद करने को पहुंचे भारतीय सिक्ख वॉलियंटर्स
जबकि यूएनडीएसए की जनसंख्या विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, 1990 में भारत में बांग्लादेश के 43 लाख लोग रहते थे.
गौरतलब है कि प्नवासी उसे कहते हैं जो अपने मूल देश को छोड़कर किसी अन्य देश में रह रहा हो. लेकिन इस रिपोर्ट में प्रवासियों की जो परिभाषा दी गई है वह काफी व्यापक है.
इस रिपोर्ट में दोनों तरह के लोगों को शामिल किया गया है एक तो वो दूसरे देश में शरणार्थि बनकर रहते हैं और दूसरे वो जो आधिकारिक तौर पर एक जगह से दूसरी जगह पलायन करके जाते हैं.
यह भी पढ़ें – रोहिंग्या मुस्लिमों से अलग नहीं है हमारे कश्मीरी पंडित भाईयों की पीड़ा
वहीं बांग्लादेश में अब भारत के 35,250 लोग रहते हैं. जिसमें 2000 के बाद 12,439 की वृद्धी हुई है. साल 2000 में बांग्लादेश में 22,811 लोग रहते थे.
अगर बात पाकिस्तान की करें तो 2000 से अब तक भारत में रह रहे पाकिस्तानी लोगों की संख्या लगभग 288,000 कम हुई है.
भारत में अब पाकिस्तान के 10.95 लाख लोग रह रहें हैं , जबकि साल 2000 में यह संख्या 13.53 लाख थी.
वहीं इसके उलट पाकिस्तान में भी भारतीय मूल के रहने वाले लोगों की संख्या कम हुई साल 2000 में जहां पाकिस्तान में भारत के 21.61 लाख लोग रहते थे जहां अब सिर्फ 18.73 लाख ही रह गए हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitterInstagram, and Google Plus