Home विशेष गूगल ने डूडल बनाकर उस्ताद बिस्मिल्लाह खान के 102वें जन्मदिन पर दी...

गूगल ने डूडल बनाकर उस्ताद बिस्मिल्लाह खान के 102वें जन्मदिन पर दी श्रदांजलि

SHARE
Ustad Bismillah Khan's 102nd Birthday

Ustad Bismillah Khan’s 102nd Birthday : गूगल ने बिस्मिल्लाह खान के शहनाई बजाते हुए चित्र का डूडल बनाया है.

Ustad Bismillah Khan’s 102nd Birthday : भारत के प्रसिद्ध शहनाई वादक और भारत रत्न से सम्मानित उस्ताद बिस्मिल्लाह खां का आज 102 वां जन्मदिवस है. 

 गूगल ने भी इस मौके पर उन्हें याद करते हुए उस्ताद की एक सफेद पोशाक पहने हुए हाथ में शहनाई बजाते हुए चित्र को डूडल पर उतारा है.
आपको बता दें कि इस डूडल को चेन्नई के कलाकार विजय कृष ने बनाया है. कलाकार ने इस डूडल में शहनाई से धुन निकलती हुई भी दिखाई हैं.
शहनाई के हर राग में हासिल थी महारत
उस्ताद खां जी का जन्म 21 मार्च 1916 को बिहार के दुमराव में हुआ था. उन्होंने कम उम्र में ही ठुमरी, छैती, कजरी और स्वानी जैसी कई विधाओं को पर महारत हासिल कर ली थी.
बचपन से ही उस्ताद की रुचि संगीत की पढ़ाई में थी इसलिए उन्होंने कई रागों में महारत हासिल कर ली.
आपको बता दें कि जब उस्ताद का जन्म हुआ तो उनके दादा ने खुदा का नाम लेते हुए ‘बिस्मिल्लाह’ कहा था यही वजह है कि उनका नाम उस्ताद बिस्मिल्लाह खान रखा गया.
यह भी पढ़ें – Google ने पेश किया मशीन लर्निंग एजुकेशन प्रोग्राम, जानिए क्या है इसमें खास
भारत रत्न से हो चुकें है सम्मानित 
गौरतलब है कि उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को दुनिया भर में कई सम्मानों से नवाजा गया है. 1961 में पद्म श्री, 1968 में  पद्म भूषण और 1980 में पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है. इसके बाद 2001 में उन्हें देश का सबसे बड़ा सम्मान भारत रत्न दिया गया.
उस्ताद इस सम्मान को पाने वाले तीसरे क्लासिकल संगीतज्ञ बन चुके हैं. गौरतलब है कि उस्ताद को शहनाई वादन के लिए  एडिनबर्ग म्यूजिक फेस्टिवल से पहचाना गया.
हम सभी जानते हैं कि उस्ताद बिस्मिल्लाह खान ने शहनाई वादन को दुनिया में एक नया मुकाम दिलाया है. यही नहीं उस्ताद खां ने अपनी शहनाई की मनमोहक धुनों से भारतीय सिनेमा को भी संगीतमय बनाया.
शहनाई वादन को दुनिया भर में पहचान दिलाने वाले उस्ताद ने अपना सफर 14 साल की उम्र से शुरु किया था. अपने इस सुरमयी सफर को विराम देते हुए 21 अगस्त 2006 में वाराणसी में उन्होंने अंतिम सांस ली.