Home विशेष World’s Slavery Report: दुनिया में 4 करोड़ लोग अब भी गुलामी भरी...

World’s Slavery Report: दुनिया में 4 करोड़ लोग अब भी गुलामी भरी जिंदगी जीने को मजबूर

SHARE
world's slavery report
demo pic

World’s Slavery Report: 2012-2016 के बीच की है रिपोर्ट

World’s Slavery Report: एक तरफ जहां दुनिया के सभी देश रोज अपनी नई-नई सफलता की कहानियां गढ़ रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ पूरे विश्व में तकरीबन 4 करोड़ लोग गुलामी भरी जिंदगी जीने को मजबूर हैं.

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन(आईएलओ) और वॉक फ्री फाउंडेशन (अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन) की तरफ से किए गए सर्वेक्षण के आधार पर पता चला है कि वर्तमान में विभिन्न देशों में गुलामी में जी रहे लोगों का जीवन काफी दयनीय बना हुआ है.
क्या कहते हैं आकड़ें
World’s Slavery Report: 2012 से 2016 के बीच एकत्र किए गए डाटा के आधार पर तैयार की गई इस रिपोर्ट के अनुसार 4 करोड़ से अधिक लोगों के आधुनिक गुलामी के शिकार होने का अनुमान है.
हालांकि यह जानना असंभव है कि आधुनिक गुलामी में कितने लोग रह रहे हैं. लेकिन अलग-अलग अध्ययनों से यह अनुमान लगाया गया है कि लोगों कि आधुनिक गुलामी एक गुप्त अपराध है जिसे पहचानना मुश्किल है.
गुलामी
demo pic
रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल 2 करोड़ 5 लाख लोग धमकी या मजबूरता के तहत किसी ना किसी की गुलामी करते पाए गए थे. वहीं 1 करोड़ 5 लाख ऐसे लोग भी थे जिनका गुलामी कराने के लिए जबरन विवाह कराया गया.
रिपोर्ट में पाया गया कि आधुनिक गुलामी में अफ्रीका का हाल बहुत बुरा है. यहां प्रति 1000 लोगों पर 7.6 लोग गुलामी से पीड़ित हैं. उसके बाद दूसरे स्थान पर एशिया और प्रशांत क्षेत्र के लोग हैं जहां 1,000 पर 6.1 लोग इस उदासिनता भरी जिंदगी जीने को मजबूर हैं.
जोखिम भरे काम कर रहे हैं बाल मजदूर
World’s Slavery Report: आईएलओ की रिपोर्ट “द 2017 ग्लोबल एस्टीमेट्स ऑफ चाइल्ड लेबर’ में बताया गया है कि विश्व भर में बाल मजदूरी पर 15 करोड़ 20 लाख बच्चे लगे हुए हैं. उनमें से 7 करोड़ 3 लाख बच्चें ऐसा काम कर रहे हैं जो सीधे अपने स्वास्थ्य, सुरक्षा और नैतिक विकास को खतरे में डालते है.
गुलामी
demo pic
इस बारे में आईएलओ के वरिष्ठ अधिकारी मिशेल डे कॉक ने बताया कि बाल श्रम लोगों के शारीरिक और मानसिक रूप से कल्याण के लिए हानिकारक है. इसे दुनिया से जितनी जल्द खत्म किया जाए उतना ही लाभकारी है.
महिलाओं से कराया जा रहा वैश्यावृत्ति
रिपोर्ट के मुताबिक, महिलाओं और लड़कियों में 71% गुलामी से पीड़ित हैं. जिनमें से 99% लड़कियों को व्यावसायिक सेक्स उद्योग के धंधे में ढकेला जा चुका है. और 84% ऐसी हैं जिनका जबरन विवाह करा दिया गया है. जिसके बाद इन्हें एक जरूरत की वस्तु समझकर अन्य लोगों के द्वारा खरीदा या बेचा जा रहा है.
वॉक फ्री फाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक फियोना डेविड ने बताया की इन आंकड़ो से पता चलता है की इस समस्या के समाधान के लिए बहुत मेहनत करने की जरूरत है.
उन्होंने कहा कि आधुनिक गुलामी में अगर 4 करोड़ लोग हैं, तो केवल हजार पीड़ितों की ही मदद की जा रही है. यह एक विशाल अंतर है जिसे हमें बंद शीघ्र ही बंद करना होगा.