Home ट्रेंडिंग Google ने डूडल बनाकर फेमस गायक केएल सेहगल के 114 वें जन्मदिन...

Google ने डूडल बनाकर फेमस गायक केएल सेहगल के 114 वें जन्मदिन का मनाया जश्न

SHARE
KL Saigal Google Doodle

KL Saigal Google Doodle : Google ने भारतीय गायक और अभिनेता केएल सेहगल की 114 वीं जयंती पर डूडल बनाकर श्रदांजलि दी है.

KL Saigal Google Doodle : भारतीय सिनेमा के बेहतरीन अभिनेता और गायक रहे कुंडललाल सेहगल की आज 114वीं जयंती है.

इस मौके पर गूगल ने माइक के सामने गाते हुए चित्र को डूडल पर उतार कर उनकी गायकी को याद किया है.
1904 में जम्मू के तहसीलदार घराने में जन्में केएल को अपनी मां से एक गहरा धार्मिक आधार मिला और साथ ही मां के संगीत के शौक से ही केएल को गायिकी की ओर रुझान बढ़ा.
वह बचपन में अपनी मां के साथ संगीत के सुर में रम गये थे, यही नहीं का रुझान संगीत के साथ साथ अभिनय में भी रहा जिसके लिए एक बार केएल ने
अपने बचपन में रामलीला के नाटक में सीता की भूमिका भी निभाई थी.
आपको बता दें कि केएल ने स्कूल छोड़ रेलवे टाइमकीपर के रूप में काम किया, जिसके बाद उन्होंने एक टाइपराइटर सेल्समैन के रूप में काम किया जिससे देश के अलग-अलग हिस्सों में जाने का मौका मिला.
अपनी इन मुलाकातों में एक बार वह लाहौर पहुंचे और मेहरचंद जैन से मिले और दोनों की गहरी दोस्ती हो गई. बाद में दोनों ने कलकत्ता का रुख कर लिया.
यह भी पढ़ें – गूगल ने भारत की पहली महिला डॉक्टर को उनकी 153वीं जयंती पर डूडल बनाकर किया सलाम
आपको बता दें कि केएल हिंदी फिल्म उद्योग के पहला सुपरस्टार थे, जिन्हें उनकी कला के लिए कोलकाता में केन्द्रित किया गया था.
मेहरचंद ने केएल को उनकी प्रतिभा को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया और जिसके बाद केएल एक होटल मैनेजर के रूप में काम करते हुए भी अपने गायिकी के जुनून को जारी रखा.
गौरतलब है कि भारतीय ग्रामोफोन कंपनी सेहगल के रिकॉर्ड के साथ बाहर आया था, जिसमें कुछ पंजाबी गाने शामिल थे, जो हाशचंद्र बाली ने बनाये थे.
वहीं मोहब्बत के अंजू पहली फिल्म थी जिसमें सेहगल की भी भूमिका थी, इसके बाद जिंदा लाश और सुबा का सितारा ने उन्हें 1932 में रिलीज़ किया गया.
1933 में, सईगल ने पूर्ण भगत फिल्म के लिए चार भजन गाए थे, जिन्होंने पूरे भारत में एक सनसनी पैदा करता था. सेहगल ने बंगाली फिल्मों में भी अभिनय किया.
पंद्रह साल में 36 हिंदी फिल्मों में काम करने वाले सेहगल ने 1947 में यानि 42 साल की उम्र में सबको अलविदा कह दिया था.
आपको बता दें कि सेहगल के विशिष्ट गायन के लिए उन्हें लता मंगेशकर, मोहम्मद रफी और किशोर कुमार द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है.