Home टेक न्यूज़ उत्तराखंड में अब गुब्बारे से मिलेगा इंटरनेट, इस सेवा को शुरू करने...

उत्तराखंड में अब गुब्बारे से मिलेगा इंटरनेट, इस सेवा को शुरू करने वाला बना पहला राज्य

SHARE
Uttarakhand Aerostat Internet Balloon
demo pic

Uttarakhand Aerostat Internet Balloon : पहाड़ी क्षेत्रों को मिलेगी बड़ी राहत 

Uttarakhand Aerostat Internet Balloon : उत्तराखंड में शुक्रवार को दूर दराज के इलाकों तक इंटरनेट की पहुंच बढ़ाने के लिए एरोस्टेट इंटरनेट बैलून लांच किया गया.

बता दें कि इस इंटरनेट वाले बैलून के माध्यम से 7 किलोमीटर तक के दायरे में आने वाले लोग मोबाइल कनेक्टीविटी और इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकेंगे.
खास बात यह है कि लोगों तक इंटरनेट पहुंचाने के लिए इस तरह का प्रयोग करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य बन गया है.
पढ़ें अब जल्द ही मोबाइल की तरह रिचार्ज करना होगा बिजली का मीटर, तभी घर होगा रोशन
कैसे काम करता है एरोस्टेट बैलून
यह हवा में उड़ने वाले एक गुब्बारा है जिसमें हल्कि गैस भरकर इसे आसमान में छोड़ दिया जाता है. हालांकी इसे एक रस्सी की सहायता से जमीन पर बांधा जाता है ताकि ये एक ही जगह पर स्थिर रहे.
इस बैलून की खास बात है कि यह विभिन्न संयंत्रों को साथ लेकर एक साथ बिना इंधन काफी समय हवा में लहराता है.
यह एक पोर्टेबल उपकरण है जिसे आसानी से किसी भी जगह ले जाकर इसे एक्टिव किया जा सकता है यही नही किसी इमरजेंसी के दौरान इसमें लगे उपकरणों को सौर उर्जा के माध्यम से तकनीकि उपयोग भी किया जा सकता है.
वहीं इस बैलून में वेदर स्टेशन, रेन गेज,नाइट विजन कैमरा आदि कई प्रकार के आधुनिक यंत्र लगे हुए हैं.
गौरतलब है कि उत्तराखंड के पहाड़ पर बसे आज भी कई ऐसे गांव है जो इंटरनेट और संचार की सुविधा से वंचित है. जिस वजह से किसी आपदा के समय वहां के लोगों के साथ संपर्क करना सरकार के लिए टेढ़ी खीर बन जाती है.
पढ़ें – नकली सामान का तुरंत पता लगाएगी IBM की आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस बेस्ड डिवाइस
ऐसे में इस एरोस्टेट इंटरनेट बैलुन की सेवा वहां के लोगों के लिए काफी कारगार साबित होगी.
देहरादून में शुक्रवार को खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बटन दबाकर बैलून को आसमान में छोड़ा. इस मौके पर उन्होंने कहा कि इससे उन क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जाएगी, जो अभी सूचना व इंटरनेट तकनीक से अछूते हैं.
जानकारी के लिए आपको बता दें कि फिलहाल इस बैलून को ट्रॉयल के लिए देहरादून में छोड़ा गया है जिसके सफल होने के बाद इसका पहाड़ों पर भी उपयोग किया जाएगा.