नासा के 2019 कैलेंडर पर छाए भारतीय बच्चे, पेंटिंग बनाकर दिया स्पेस में रहने-खाने का आइडिया

Nasa 2019 Calendar

Nasa 2019 Calendar : यूपी की दीपशिखा द्वारा बनाए गए आर्ट को कवर पेज पर किया शामिल

Nasa 2019 Calendar : भारत का सीना गर्व से चौड़ा करते हुए इस बार भारतीय बच्चे नासा के वार्षिक कैलेंडर पर छाए हुए हैं.

दरअसल नासा की तरफ से इस बार कर्मशल क्रू प्रोग्राम 2019 के तहत चिल्ड्रन आर्ट वर्क कैलेंडर लॉन्च किया गया, जिसके कवर पेज पर उत्तर प्रदेश की नौ साल की दीपशिखा द्वारा बनाया गया चित्र है.
आपको जानकर ख़ुशी होगी कि इस वार्षिक कैलेंडर में साल के 12 महीनों के लिए सिर्फ बच्चों के द्वारा ही तैयार किये गए आर्ट वर्क का प्रयोग किया है.
पढ़ेंISRO ने भारतीय वायुसेना के लिए महत्वपूर्ण GSAT -7A सैटेलाइट को किया लांच
यहाँ सबसे खास बात यह रही कि इस कैलेंडर में दीपशिखा के आर्ट के अलावा तीन और बच्चों   का चित्र सेलेक्ट किया गया है.
Nasa 2019 Calendar

थेमुकिलिमन का आर्ट वर्क
भारत के बच्चों ने कर दिखाया ये कारनामा 
आपको बता दें कि उत्तरप्रदेश की दीपशिखा के अलावा इस कैलेंडर पर महाराष्ट्र के 10 साल के इंद्रयुद्ध और 8 साल के श्रीहन का बनाया आर्ट वर्क भी शामिल किया गया है.
इन्द्रयुद्ध और श्रीहन ने सम्मिलित रूप से यह आर्ट वर्क तैयार किया है. बताया जा रहा है कि इन तीन बच्चों के अलावा 12 साल के तमिलनाडु के थेमुकिलिमन का आर्ट वर्क भी नासा के वार्षिक कैंलेंडर में शामिल किया गया है.
बता दें कि 12 महीनों का कैलेंडर एक थीम पर आधारित है जो अंतरिक्ष विज्ञान से जुड़ा है. हर महीने के लिए अंतरिक्ष से जुड़ा कोई मास्टरपीस थीम के तौर पर सिलेक्ट किया गया है.
इन बच्चों की इस पेंटिंग की ख़ास बात ये है कि इन्होंने अपने आर्ट के जरिए वैज्ञानिक रुप से नायब आईडिया भी दिए हैं.
जैसे उदाहरण के तौर पर, उत्तरप्रदेश की दीपशिखा की पेंटिंग में एक बच्ची पृथ्वी पर खड़ी है और अंतरिक्ष यात्री को अलविदा कह रही है, इस तस्वीर को नासा ने कवर पेज बनाया है. 
पढ़ें – देश का सबसे वजनी सैटेलाइट GSAT 11 लांच, इस तरह घरों में देगा इंटरनेट की हाई स्पीड
इसरो के मुताबिक
इसके अलावा इंद्रयुद्ध और श्रीहन ने लिविंग एंड वर्किंग इन स्पेस थीम पर आर्ट वर्क है. इस आर्ट वर्क से उन्होंने बताया कि करीब 20 साल तक अंतरिक्ष यात्री स्पेस में कैसे काम करते हैं.
वहां वो सभी चीज करते हैं जो पृथ्वी पर की जाती हैं. वो सोते हैं, खाते हैं, वहां जी-तोड़ मेहनत करते हैं और एक्सरसाइज भी करते हैं. उनका ये काम सिखाता है कि पृथ्वी, चांद और मंगल से दूर रहकर कैसे जीवित रहा जा सकता है.
वहीँ तमिलनाडु के थेमुकिलिमन के आर्ट वर्क का थीम फूड है. उन्होंने इस आर्ट वर्क के जरिए आग्रह किया है कि अंतरिक्ष यात्री सब्जियां उगाएं. इससे उनकी डाइट में न्यूट्रिशन की मात्रा बढ़ेगी और यात्रियों को पृथ्वी पर रहने जैसा अहसास होगा.