Home गांव चौपाल ग्रामीण लोगों के विकास के लिए मिलिटरी एकेडमी ने लिया पुणे का...

ग्रामीण लोगों के विकास के लिए मिलिटरी एकेडमी ने लिया पुणे का एक गांव गोद

SHARE
Pune Military Academy Adopts Village
demo pic

Pune Military Academy Adopts Village : ग्रामीण लोगों को विकास से जोड़ने में करेगी मदद

Pune Military Academy Adopts Village : भारत के पूर्व मुख्यमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने अपने कार्यकाल के दौरान एक नारा दिया था जय जवान – जय किसान.

इस नारे को देने के पीछे उनका मानना था कि जवान और किसान यह दो ऐसे वर्ग हैं जिनकी तरक्की से ही देश का उद्धार हो सकता है.
जरा सोचिए अगर भारत के विकास के लिए दोनों ही वर्ग एक साथ आ जाए तो कैसा रहेगा, जी हां ऐसा ही कुछ होने वाला है पुणे के एक गांव में
सैन्य प्रौद्योगिकी संस्थान (एमआईएलआईटी) पुणे के पास गिरिनागर में भारतीय सशस्त्र बलों की ट्राई-सर्विस तकनीकी प्रशिक्षण संस्थान ने रविवार को घोषणा करी कि उसने सिंहजीड किले की तलहटी पर स्थित एक गांव को गोद लिया है.
खास बात यह है कि गोद लिए इस गांव के लोगों को यह संस्थान कचरा प्रबंधन, शिक्षा, कृषि में ग्रामीण लोगों को प्रशिक्षण देगा. इस बारे में 1 अप्रैल को संस्था के तीसरे स्थापना दिवस पर सैन्य अधिकारियों ने घोषणा कर दी है.
स्थापना दिवस के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर आए वरिष्ठ अभिनेता विक्रम गोखले ने ग्रामीणों से आग्रह किया कि वे एमआईएलआईटी अधिकारियों के साथ मिलकर काम करें और उनके द्वारा शुरू किए जा रहे आगामी परियोजनाओं का लाभ उठाएं.
यह भी पढ़ें – कृषि उन्नति मेले में पीएम मोदी की कही गई इन बातों से क्या संवरेगा किसान भाईयों का भविष्य ?
उन्होंने कहा एमआईएलआईटी द्वारा शुरू की जाने वाली विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने के साथ-साथ, मैं इन सैनिकों से अनुशासन और कड़ी मेहनत के साथ काम करने की अपील करता हूं.
अभिनेता ने कहा कि जैसे एक आस्तिक अपने देवता का सम्मान करता है वैसे ही मैं वर्दी में पुरुषों और महिलाओं के बारे में महसूस करता हूं.
यही नहीं उन्होंने एमआईएलआईटी के इस काम को सराहते हुए कहा कि आपका और ग्रामीणों द्वारा संयुक्त प्रयास हमारे देश के दो खंभे सैनिक और किसान को साथ लाने में बड़ी भूमिका निभाएगा.
एमआईएलआईटी ‘सोशल वेल क्लब‘ द्वारा शुरू किए गए एस अभियान में गांव में स्वास्थ्य और शिक्षा में सहायता प्रदान करना ,सरकारी योजनाओं के कार्यान्वयन जैसे आधार कार्ड के लिए आवेदन करने, बैंक खाता खोलने और युवाओं को रोजगार मुहैया कराने के लिए प्रशिक्षण देना शामिल है.
एमआईएलआईटी गांव में कचरा प्रबंधन और अग्निशमन के लिए सुधार की दिशा में भी काम करेगी.
मिलट कमांडेंट मेजर जनरल ए.के. सपरा ने कहा कि हमारी संस्था जिस जगह पर है वहां हम डोन्जी के ग्रामीणों के साथ अच्छे संबंध साझा कर सकते हैं.
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि इस कदम से कई क्षेत्रों में ग्रामीणों को लाभ होगा साथ ही उनकी ऐसी चाहत हैआने वाले वर्षों में यह रिश्ता ऐसे ही जारी रहेगा.

साभार – इंडियन एक्सप्रेस