Home विदेश Afghanistan Girl Education: अफगान की दो तिहाई लड़कियां स्कूल नहीं जाती- रिपोर्ट

Afghanistan Girl Education: अफगान की दो तिहाई लड़कियां स्कूल नहीं जाती- रिपोर्ट

SHARE
afghanistan girl education
demo pic

Afghanistan Girl Education: ह्यूमन राइट्स वॉच की रिपोर्ट में दावा

Afghanistan Girl Education : अंतरार्ष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने एक रिपोर्ट साझा कर बताया है कि अफग़ानिस्तान में रहने वाली दो तिहाई लड़कियां स्कूल नहीं जाती है.

मंगलवार को ह्युमन राइट्स ने अपनी रिपोर्ट जारी कर जानकारी दी कि अफगान सरकार की तरफ से लड़कियों की शिक्षा में सुधार के प्रयासों के बावजूद उनके स्कूल जाने का अनुपात काफी तेजी से गिर रहा है.
आतंकी हमलों से बाधित हुई शिक्षा
एचआरडब्ल्यू ने अफगानिस्तान के चार प्रांतों में किए गए अपने सर्वेक्षण और एकत्र सरकारी आंकड़ों पर अपनी इस रिपोर्ट को तैयार किया है.
जिससे पता चलता है कि स्कूल ना जाने वाले 35 लाख बच्चों में से लगभग 85% लड़कियां हैं.
यह भी पढ़ें-  Kailash Satyarthi Bharat Yatra: कश्मीरी बच्चों के सफल जीवन के लिए संघर्ष करेंगे कैलाश सत्यार्थी
रिपोर्ट में कहा गया है कि ये बात सच है कि तालिबान शासनकाल (1996-2001) की तुलना में अब लाखों की तादाद में ज्यादा लड़कियां शिक्षा पा रही हैं.
लेकिन हाल के वर्षों में हुए तालिबानी हमले और भीतरघाती विद्रोह के चलते वहां की लड़कियों के स्कूल जाने में तेजी से गिरावट आई है.
लड़कियों की पढ़ाई का हिस्सा लड़कों को
इस बारे में एचआरडब्ल्यू की महिला अधिकार निदेशक लेज़ल गर्नथोल्त्ज़ ने कहा कि लड़कियों की शिक्षा ग्रहण ना करने के पीछे उनकी असुरक्षा की भावना के साथ परिवार की आर्थिक कमजोरी भी है.
उन्होंने कहा कि ना सिर्फ अफगानिस्तान में बल्कि कई देशों में गरीब परिवार के लिए अपने बच्चों को शिक्षा दिलाने के लिए बहुत संघर्ण करना पड़ता है. जिस वजह से वो लड़कियों की शिक्षा को प्राथमिकता न देकर लड़को को पढ़ाने पर ज्यादा ध्यान देते हैं.
यह भी पढ़ें-  Indian Brick Worker: आखिर क्यों ईंट बनाने वाले मजदूर जिल्लत की जिंदगी जीने को हैं मजबूर
सर्वेक्षण के दौरान 15 वर्ष की नाजिरा बताती हैं कि उसकी बड़ी बहन को उसके चाचा ने स्कूल नहीं जाने दिया. क्योंकि उनके यहां लड़कियों के लिए सिर्फ 5 साल तक की उम्र तक पढ़ाई करने की इजाज़त थी.
वहीं उसके भाई पर ऐसी किसी तरह की कोई बंदिश लागू नहीं थी.
संगठन ने सरकार से की सिफारिश
गौरतलब है कि एचआरडब्ल्यू संगठन ने सरकार से स्कूल की ड्रेस की आवश्यकता को खत्म करने,शिक्षकों के वेतन में सुधार,महिला शिक्षकों को प्रोत्साहित करने और लड़की, लड़के सहित सभी के लिए शिक्षा को अनिवार्य करने जैसे सभी बिंदुओं में सुधार लाने के लिए सरकार से सिफारिश की है.

साभार – ड्यूच्च वेले

 For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus