CBSE 10वीं के स्टूडेंटस के लिए खुशखबरी, अब खुद से चुनें Maths का पेपर

CBSE New Rules For Board Students
demo pic

CBSE 10th Maths Paper Choice :  सत्र 2019-20 की होने वाली बोर्ड परीक्षा में स्टूडेंट्स मैथ्स के स्तर को चुन सकेंगे.

CBSE 10th Maths Paper Choice : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने अपने स्टूडेंटस को एक बड़ी राहत देने कै फैसला किया है.

जी हां, CBSE ने 10वीं कक्षा के अगले साल यानी 2020 में होने वाले गणित(Maths) के पेपर में स्टूडेंटस को दो विकल्प देने का ऐलान किया है.
सीबीएसई के इस नए नियम के मुताबिक आगामी सत्र 2019-20 की होने वाली बोर्ड परीक्षा में स्टूडेंट्स मैथ्स के स्तर को चुन सकेंगे.
यानी की अगले साल बोर्ड की 10 वीं की गणित परीक्षाओं में स्टूडेंट्स को प्रश्न पत्र हल करने के लिए दो विकल्प दिए जाएंगे.
इसमें पहला पेपर अभी की तरह ही होगा जबकी दूसरा उससे थोड़ा आसान रहेगा,परीक्षार्थी अपनी सुविधानुसार दोनों में से कोई एक पेपर सॉल्व करने के लिए चुन सकते हैं.
पढ़ें – जानिए भारत के अलावा कैसा है अन्य देशों में शिक्षा का स्तर
हालांकी यह नियम सिर्फ 10वीं की बोर्ड परीक्षा में ही लागू होगा, स्‍कूल की इंटर्नल परीक्षा पहले की ही तरह होगी.
CBSE के नोटिफिकेशन के मुताबिक पहले लेवल को मैथमेटिक्‍स स्‍टैंडर्ड (Mathematics Standard) कहा जाएगा, जबकि दूसरे यानी कि आसान लेवल को मैथमेटिक्‍स बेसिक (Mathematics Basic) का नाम दिया गया है.
ये बातें है प्रमुख
1.मैथ्स के दो पेपर सिर्फ 10वीं क्लास के लिए होंगे, 9वीं क्लास के छात्रों को यह सुविधा नहीं मिलेगी 
2. दोनों पेपर का सिलेबस से लेकर क्लासरुम की पढ़ाई इंटरनल असेसमेंट सब एक ही रहेगा,ताकी पूरे साल स्टूडेंट्स सभी टॉपिकों को अच्छे से समझ सकें.
3. सीबीएसई ने कहा की मैथमेटिक्स-स्टैंडर्ड उन छात्रों के लिए होगा जो 11वीं और 12वीं में मैथ्स रखना चाहते हैं और मैथ्स का बेसिक लेवल उन छात्रों के लिए होगा जो आगे मैथ्स से पढ़ाई नहीं करना चाहते हैं.
पढ़ेंCBSE ने जारी करी 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की डेटशीट, एक क्लिक में देखें
4. इसका चयन विद्यार्थी एग्जाम के लिए आवेदन करते समय अपनी मर्जी के मुताबिक करेगा.
5. अगर मान लीजिए कोई छात्र बेसिक लेवल में फेल हो गया तो उसका कंपार्टमेंट एग्जाम बेसिक लेवल का ही होगा जबकी स्टैंडर्ड लेवल में फेल होगा तो स्टैंडर्ड लेवल का ही कंपार्टमेंट एग्जाम देना होगा.
6.वहीं अगर कोई बेसिक परीक्षा वाला पास होने के बाद 11वीं में मैथ्स विषय लेना चाहता है तो उसे स्टैंडर्ड मैथ्स की कंपार्टमेंट परीक्षा में बैठकर इसे पास करना होगा.