देश की पहली रेलवे यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने के लिए पढ़ें ये खबर

Indian Railway University

Indian Railway University : विद्यर्थियों की पढ़ाई के लिए रेलवे ने  देश की पहली रेल यूनिवर्सिटी शुरू कर दी गई है.

Indian Railway University : भारतीय रेलवे में शिक्षा और गुणवत्ता के लिए प्रधानमंत्री मोदी देश की पहली रेलवे यूनिवर्सिटी की नींव रख दी है.

इस यूनिवर्सिटी में ट्रांसपोर्ट टेक्नोलॉजी और ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट की शिक्षा को अग्रणी रखा गया है, जो रेलवे में बहुत ही महत्वपूर्ण कदम साबित होगा.
भारत की इस पहली रेलवे यूनिवर्सिटी में दो कोर्स ‘बैचलर ऑफ साइंस इन ट्रांसपोर्टेशन टेक्नोलॉजी’ और ‘बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन इन ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट’ के लिए 103 विद्यार्थी पहले ही शॉर्टलिस्ट किए जा चुके हैं.
फिलहाल दोनों स्नातक डिग्री लेने के लिए 50-50 विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं. आने वाले समय में यूनिवर्सिटी में कुछ और कोर्सेस को भी शुरु कर दिया जाएगा, जिसमें पीएचडी भी शामिल होगी.
पढ़ें – दिल्ली में अब एक कॉल पर पहुंचेगी सरकार आपके द्वार, Door Step Delivery सेवा आज से शुरू
बता दें कि भारतीय रेलवे विभाग इस यूनिवर्सिटी को कोर्स के लिए फंड दिया जा रहा है. वहीं यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए हॉस्टल की सुविधा भी उपलब्ध करा दी गई है.
फिलहाल इस यूनिवर्सिटी के लिए अलग से कोई कैंपस नहीं बनाया गया है, इसलिए अभी इसे प्रताप विलास पैलेस से संचालित किया जाएगा.
प्रताप विलास पैलेस को नेशनल ऐकेडमी ऑफ इंडियन रेलवे के नाम से जाना जाता है. इस इमारत का निर्माण 1908 से 1914 के बीच करवाया गया था, जो इतिहास के लिए अहम भी है.
यही कारण है कि अभी इस यूनिवर्सिटी को इसी संस्थान से संचालित किया जाएगा, लेकिन जल्द ही इसका अलग कैंपस तैयार कर लिया जाएगा. इसके कैंपस के निर्माण के लिए रेलवे पहले ही 100 एकड़ की जमीन का चयन कर चुका है.
कोर्स से संबंधित जानकारी
स्टूडेंट्स बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन इन ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट कोर्स के जरिए ट्रांसपोर्टेशन सेक्टर में मैनेजमेंट सिस्टम की डिग्री ले सकेंगे, इस कोर्स को करने की अवधि तीन साल रहेगी.
वहीं बैचलर ऑफ साइंस इन ट्रांसपोर्टेशन टेक्नोलॉजी के माध्यम से स्टूडेंट्स ट्रांसपोर्टेशन फील्ड में उपयोग की जाने टेक्नोलॉजी की जानकारी ले सकेंगे, इस कोर्स को भी तीन साल में पूरा किया जा सकेगा.
पढ़ें राजस्थान सरकार ने स्कूली बच्चों के लिए बड़ा फैसला, इस दिन मिलेगी पढ़ाई लिखाई से छूट
कोर्स की फीस
दोनों कोर्स के लिए स्टूडेंट्स को 91,075 रुपये राशि का भुगतान करना होगा. बता दें कि पहले बैच के
विद्यार्थियों को विशेष तौर पर इन कोर्सेज में स्कॉलरशिप दी जाएगी जो ट्यूशन फीस की 50 फीसदी रहेगी.
फिलहाल स्कॉलरशिप के लिए आवेदन प्रक्रिया खत्म हो चुकी है और उम्मीदवारों का चयन एनआरटीआई एप्टीट्यूट टेस्ट के माध्यम से कर लिया गया है, और आगे भी इसी आधार पर प्रोसेस जारी  रहेगी.