मुंबई ब्रिज हादसा : आतंकी कसाब और लाल बत्ती का क्या है इससे कनेक्शन, जानें

Mumbai Bridge Collapse

Mumbai Bridge Collapse : अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है जबकी 33 लोग घायल हैं.

Mumbai Bridge Collapse : मुंबई में गुरुवार शाम CST रेलवे स्टेशन के पास फुट ओवर ब्रिज गिरने की खबर आपको अब तक पता चल ही गई होगी

18 महीने में इस महानगर में 3 पुल गिरने के वाक्ये ने नगर पालिका व सरकार की पोल खोल कर रख दी है.
बता दें की कल गिरे इस पुल में अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है जबकी 33 लोग घायल अवस्था में अस्पताल के अंदर भर्ती है.
इस हादसे को लेकर पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘मुंबई में फुटओवर ब्रिज हादसे में लोगों की जान जाने से बेहद आहत हूं. मेरी संवेदनाएं शोक संतप्‍त परिवारों के साथ हैं. घायलों के जल्‍द से जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना करता हूं.
पढ़ेंइथोपिया हवाई हादसे के बाद निशाने पर आया बोइंग विमान, भारत में क्या है हलचल ?
वहीं मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने खुद अस्पताल जाकर घायलों से उनका हाल चाल पूछे व मृतकों को 5 लाख की आर्थिक मदद देने का भी ऐलान किया है.
वहां के प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक शाम करीब 7.35 बजे ये पुल गिरा जिसके मलबे में कई लोग दब गए, यहां तक की कुछ गाडियां भी इसके नीचे आकर क्षतिग्रस्त हुई हैं.
लाल बत्ती ने बचाई कईयों की जान
वहां मौजूद कुछ लोगों ने बताया की गलीमत रही जिस वक्त ये ब्रिज गिरा उस समय पास वाले चौराहे पर लाल बत्ती यानी (Red Signal) था.
लोगों ने बताया की अगर लाल बत्ती नहीं होती तो मृतकों की संख्या कहीं ज्यादा हो सकती थी.
उन्होंने कहा कि हम लोग लाल बत्ती होने की वजह से चौराहे पर उस ओर जाने का इंतजार कर रहे थे .
आंतकी कसाब से इसका है ये कनेक्शन
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस ब्रिज को लोग कसाब ब्रिज के नाम से भी जानते थे क्योंकी 26/11 हमले के वक्त आतंकी अजमल आमीर कसाब और इस्माइल खान ने इस पुल का प्रयोग किया था.
पढ़ेंभारतीय इतिहास के सबसे बड़े दानी बने अजीम प्रेमजी,अब तक दिए 1.45 लाख करोड़ रुपये
फोटो जर्नलिस्ट श्रीराम वर्नेकर के मुताबिक उस दिन इसी ब्रिज से होते हुए दोनों आतंकी सीएसटी टर्मिनस के पैसेंजर हॉल में में दाखिल हुए थे और वहां अंधाधुंध फायरिंग की थी.
उन्होंने बताया की वो आतंकियों को इस पुल से लोगों पर हथगोले भी फेंकते हुए देखा था.
बता दें की श्री राम ने पुल की सीढियों से नीचे आते हुए कसाब की तस्वीर अपने कैमरे में कैद कर ली थी जिसे बाद में कसाब के खिलाफ सबूत के तौर पर भी पेश किया गया था